खुल रहा ये बैंक! अब मिलेंगे आपको फायदे ही फायदे, टेंशन हुई खत्म

चीन और यूरोपीय देशों के बाद अब भारत में भी बुलियन बैंकिंग को लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC) ने सरकार को भारत में बुलियन बैंकिंग शुरू करने की सलाह दी है।

खुल रहा ये बैंक! अब मिलेंगे आपको फायदे ही फायदे, टेंशन हुई खत्म

खुल रहा ये बैंक! अब मिलेंगे आपको फायदे ही फायदे, टेंशन हुई खत्म

नई दिल्ली: चीन और यूरोपीय देशों के बाद अब भारत में भी बुलियन बैंकिंग को लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC) ने सरकार को भारत में बुलियन बैंकिंग शुरू करने की सलाह दी है। WGC की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि वर्तमान समय में भारतीय गोल्ड मार्केट कई तरह की चुनौतियों का सामना कर रही है, जैसे- सोने की क्वालिटी के लेकर सवाल उठना। साथ ही गोल्ड मार्केट भी पूरी तरह से संगठित नहीं है। ऐसे में बुलियन बैंकिग के जरिए भारत के पास दुनियाभर में अपनी पकड़ बनाने का अच्छा मौका है। क्योंकि भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा कंज्यूमर देश (Gold Consumer Countries) है। भारत में पूरे साल में 850 टन से 900 टन सोने की खपत होती है।

यह भी पढ़ें: यहां देखें राजधानी के नए डीएम अभिषेक प्रकाश की शानदार तस्वीरें

क्या होती है बुलियन बैंकिंग-

सोने को दुनियाभर के सबसे अच्छे लिक्विड ऐसेड क्लास में से एक माना जाता है। अमेरिका, यूके,स्विट्जरलैंड और चीन जैसे कई देशों में बुलियन मार्केट पूरी तरह सक्रिय और ऑर्गनाइज्ड है। बुलियन बैंक के जरिए आम लोगों को सोने का कर्ज बांटना, निवेश कराना और शेयर की तरह सोने की ट्रेडिंग शामिल है। दुनियाभर में चीन में सोने की सबसे अधिक खपत होती है। मौजूदा समय में चीनी बैंक बड़ी संख्या में बुलियन मार्केट में भी हिस्सा लेते हैं। दुनियाभर में फिलहाल बुलियन बैंकिंग का सबसे ज्यादा उपयोग इन्वेस्टमेंट के लिए किया जाता है। बुलियन बैंक आमतौर पर बुलियन मार्केट एसोसिएशन (LBMA) में भाग लेते हैं और LBMA अच्छी डिलीवरी बुलियन पर बेसड बैंकिंग करते हैं।

बुलियन बैंक के जरिए मिलेंगे कई फायदे

बुलियन बैंकों के जरिए आम लोगों को कई फायदे मिलेंगे। अगर किसी व्यक्ति को सोना बेचना होता है तो स्थानीय ज्वैलर्स अक्सर सोने की क्वालिटी पर सवाल उठाकर आम लोगों के साथ ठगी करते हैं। ऐसे में बुलियन के जरिए आम लोग आसानी से सोना बेच सकते हैं। इसके अलावा सोना खरीदते वक्त भी क्वालिटी जैसे मामलों की चिंता करने की कोई जरुरत नहीं रहेगी।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: दिल्ली सरकार से 5 नवंबर तक हाईकोर्ट ने मांगा जवाब