×

खुशखबरी: टैक्स बढ़ने के बाद भी सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल, अब है इतना रेट

एक ओर तो मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी (Special Excise Duty) और रोड सेस (Road Cess) बढ़ा दिया तो वहीं इसके बाद भी फियूल के रेट (Petrol-Diesel Prices) में गिरावट आई है।

Shivani Awasthi
Published on 15 March 2020 7:58 AM GMT
खुशखबरी: टैक्स बढ़ने के बाद भी सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल, अब है इतना रेट
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: एक ओर तो मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी (Special Excise Duty) और रोड सेस (Road Cess) बढ़ा दिया तो वहीं इसके बाद भी फियूल के रेट (Petrol-Diesel Prices) में गिरावट आई है। दरअसल, बीते दिन सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए पेट्रोल और डीजल पर टैक्स बढ़ा दिया था। जिसके देशभर में पेट्रोल-डीज़ल के दाम 3 रुपये प्रति लीटर तक बढ़ने की सम्भावना थी। हालाँकि आज इस फैसले के बावजूद भी तेल की कीमतों में गिरावट आई है।

पेट्रोल-डीजल के दाम घटे

रविवार को पेट्रोल-डीजल के दाम घटे हैं। तेल कंपनी इंडियन ऑयल ने रविवार को पेट्रोल की कीमतों में 12 पैसे प्रति लीटर की कटौती की है, जबकि डीजल के भाव में 14 पैसे प्रति लीटर की गिरावट आई है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल का दाम घटकर 69.75 रुपये हो गया। वहीं, डीजल का दाम (Diesel Prices) 62.44 रुपये प्रति लीटर हो गया।

ये भी पढ़ें: दिग्गज हस्तियों की जान को खतरा, इस महामारी ने इनको भी नहीं छोड़ा

आज बिक रहा अब तक का सबसे सस्ता पेट्रोल-डीजल, यहां नए रेट

सरकार ने फियूल पर बढ़ाई थी एक्साइज ड्यूटी

गौरतलब है कि केंद्र की मोदी सरकार ने शनिवार को पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी (उत्पाद शुल्क) में बढ़ोतरी की। इसके तहत दो रुपये प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी का बढ़ा है तो वहीं रोड और इंफ्रा सेस 1 रुपये प्रति लीटर बढ़ा है। ऐसे में देशभर में पेट्रोल-डीज़ल के दाम 3 रुपये प्रति लीटर तक बढ़ गया।

ये भी पढ़ें: होना था चंद्रशेखर की पार्टी का एलान लेकिन पहले ही लग गई रोक, ये है वजह

ये है वजह:

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चा तेल सस्ता होने के बावजूद पेट्रोल-डीजल के दामों में इजाफा किये जाने के पीछे विशेषज्ञ खराब अर्थ व्यवस्था को वजह बता रहे हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक, इस फैसले से कमजोर अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए सरकार को अतिरिक्त धन जुटाने में मदद मिलेगी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में आई गिरावट की वजह से सरकार के लिए यह फैसला करना संभव हुआ है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story