×

Delhi CM केजरीवाल ने पीएम मोदी को लिखा खत, पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा को भारत रत्न देने की मांग

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी को खत लिखकर पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा को भारत रत्न दिए जाने की मांग की है।

Network

NetworkNewstrack NetworkSatyabhaPublished By Satyabha

Published on 17 July 2021 9:21 AM GMT

kejriwal news
X

सीएम अरविंद केजरीवाल फोटो- सोशल मीडिया

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने सुंदरलाल बहुगुणा को भारत रत्न (Bharat Ratna) देने की मांग की है। असके लिए केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को पत्र लिखा है। इस पत्र के माध्यम से केजरीवाल ने पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा (Sundar Lal Bahuguna) के संघर्षों के बारे में बताते हुए पीएम से अपील की है कि उन्हें भारत रत्न दिया जाए।

पीएम मोदी को लिखे पत्र में केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली सरकार की ओर से मेरा आपसे निवेदन है कि सुंदरलाल बहुगुणा जी को भारत रत्न की उपाधि से सम्मानित किया जाए। मैं उम्मीद करता हूं कि आप दिल्ली सरकार के इस निवेदन पर गौर करेंगे। गुरुवार को स्व. सुंदरलाल बहुगुणा की याद में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस दौरान सीएम केजरीवाल ने पीएम मोदी से अपील करते हुए कहा था कि स्व. सुंदरलाल बहुगुणा को भारत रत्न से सम्मानित किया जाए। भले ही शरीर के रूप में स्व. बहुगुणा हमारे बीच में नहीं हैं, लेकिन उनका जीवन और संदेश हमेशा हमारे साथ रहेगा। उन्होंने कहा था कि इस संबंध में प्रधानमंत्री को पत्र लिखूंगा।

पर्यावरणविद ने अपनी पूरी जिंदगी समाज को दी

केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली सरकार की ओर से दिवंगत पर्यावरणविद की याद में एक स्मारक बनाया गया और उनकी तस्वीर का अनावरण किया गया। उन्होंने कहा कि उनके जीवन का एक-एक समय हमारे लिए और आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा बनेगा। पर्यावरणविद ने बहुत संघर्ष किया और अपनी पूरी जिंदगी समाज को दी है। वह उत्तराखंड और भारत के अलाव पूरी दुनिया के प्रेरणा स्रोत थे। हमारे लिए पर्यावरण कितना महत्वपूर्ण है यह उनके जीवन की सबसे बड़ी प्रेरणा पर्यावरण थी जिसे आज सारी मानव जाति समझ रही है।


Satyabha

Satyabha

Next Story