Top

भारत-बांग्लादेश सीमा से चीनी जासूस गिरफ्तार, पूछताछ में उगले कई राज

चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। एक तरफ जहां दोनों देशों के बीच स्थिति सामान्य करने पर जो दिया जा रहा है।

Han Junwei
X

भारत-बांग्लादेश सीमा से बीएसएफ ने चीनी जासूस को किया गिरफ्तार (फोटो साभार-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: चीन, भारत के खिलाफ अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। एक तरफ जहां दोनों देशों के बीच स्थिति सामान्य करने पर जो दिया जा रहा है। वहीं बीएसएफ ने बांग्लादेश बॉर्डर से गैर कानूनी तरीके से भारत में प्रवेश कर रहे चीनी नागरिक को धर-दबोचा है। जांच में पता चला हे कि पकड़ा गया चीनी नागरिक एक जासूस है। इसका नाम हान जुनवई बताया जा रहा है जो लगभग 36 वर्ष का है। जुनवई अवैध तरीके से भारत में घुसने का प्रयास कर रहा था, जिसके चलते उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

हान जुनवई के बारे में पता चला है कि कुछ समय पहले उसके एक साथ को उत्तर प्रदेश पुलिस की एंटी टेरर स्वॉवयड ने गिरफ्तार किया था। इस मामले में हान जुनवई और उसकी पत्नी सह आरोपी हैं। वांछित होने के चलते उसे भारत की तरफ से वीजा नहीं मिल रहा था। वहीं पुूछताछ में हान जुनवई ने खुलासा किया है कि उसका साथी भारत से हर महीने 10-15 सिम कार्ड चीन भेजता था। उसने बताया कि गुरुग्राम में उसका अपना होटल है, जिसमें कई चीनी नागरिक कार्यरत हैं।

चीनी घुसपैठिए की तलाशी के दौरान उसके पास से चीनी पासपोर्ट, एक एप्पल लैपटॉप, 2 आईफोन मोबाइल, 1 बांग्लादेशी सिम, 1 भारतीय सिम, 2 चाइनीज़ सिम, 5 मनी ट्रांजैक्शन मशीन, 2 पेनड्राइव, 3 बैटरी, दो स्मॉल टॉर्च, 2 एटीएम कार्ड, अमेरिकी डॉलर, बांग्लादेशी टका और भारतीय मुद्रा बरामद हुई है।

दो सालों में तीन बार आया दिल्ली-गुरूग्राम

जानकारी के मुताबिक चीनी जासूस हान जुनवई भारत-बांग्लादेश सीमा पर मालदा जिले की सुल्तानपुर बीओपी के निकट एक चोर रास्ते से पश्चिम बंगाल में घुसने की फिराक में था, लेकिन वहां तैनात बीएसएफ के जवानों की नजरों से नहीं बच पाया। जवानों को देखकर उसने भागने की कोशिश भी की थी, लेकिन सफल नहीं हो पाया। पूछताछ में पता चला है कि वह वर्ष 2010 में हैदराबाद आया था। जबकि वर्ष 2019 से अब तक तीन बार वह दिल्ली-गुरुग्राम आ चुका है। उसके पास से बरामद पासपोर्ट चीन के हुबई प्रांत का है, जो इसी वर्ष जारी हुआ है।

Raghvendra Prasad Mishra

Raghvendra Prasad Mishra

Next Story