Top

Corona: वैक्सीन लगवाकर न हों बेफिक्र, ये घातक वायरस फिर ले सकता है चपेट में

Coronavirus: कोरोना वैक्सीन लगवाकर बहुत से लोग बेफिक्र हो चुके हैं। लेकिन कोरोना का घातक वेरिएंट डेल्टा उन्हें अपनी चपेट में ले सकता है।

Network

NetworkNewstrack NetworkShreyaPublished By Shreya

Published on 10 Jun 2021 10:13 AM GMT

Corona: वैक्सीन लगवाकर न हों बेफिक्र, ये घातक वायरस फिर ले सकता है चपेट में
X

वैक्सीनेशन करवाती युवती (कॉन्सेप्ट फोटो- न्यूजट्रैक)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Coronavirus: देश में बीते डेढ़ साल से कोरोना वायरस महामारी (Corona Virus Pandemic) का कहर जारी है। भारत में अब तक करीब तीन करोड़ लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि साढ़े 3 लाख से ज्यादा लोगों की मौत इस बीमारी के चलते हो गई है। बीते 24 घंटे में कोरोना से मौत का अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा सामने आया है, जो कि 6148 है।

कोरोना का सबसे ज्यादा प्रकोप दूसरी लहर (Corona Virus Second Wave) में देखने को मिला। हालांकि अब कोरोना के नए मामलों (Corona Cases In India) में काफी गिरावट देखने को मिल रही है। बीते महीने जहां रोजाना संक्रमितों के आंकड़े 3 लाख से अधिक रह रहे थे तो वहीं बीते कुछ दिनों से कोरोना के एक लाख से कम दैनिक मामले सामने आ रहे हैं।

कोरोना के जारी कहर के बीच सरकार तेजी से वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) करवाने पर जोर दे रही है। चीन के बाद सबसे तेज वैक्सीनेशन के मामले में भारत दूसरे नंबर पर है। देश में अब तक 24 करोड़ से ज्यादा कोरोना वैक्सीन की डोज लग चुकी हैं। हालांकि इस बीच कुछ ऐसे भी हैं जो वैक्सीन लगवाने के बाद बेफिक्र होकर घूम रहे हैं।

(कॉन्सेप्ट फोटो- न्यूजट्रैक)

डेल्टा से हो सकते हैं संक्रमित

अगर आप भी उनमें से एक हैं तो फिर संभल जाइए। क्योंकि भारत में मिला कोरोना वेरिएंट डेल्टा (Delta Variant) वैक्सीनेशन करवा चुके लोगों को भी संक्रमित कर रहा है। ये खुलासा हाल ही में एक अध्ययन में हुआ है।

दरअसल, हाल ही में दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) ने एक शोध में दावा किया है कि इसकी कोई गारंटी नहीं है कि कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) लगवाने के बाद लोग वायरस से संक्रमित नहीं होंगे। वैक्सीन केवल यह सुनिश्चित करती है कि संक्रमण का असर गंभीर नहीं होगा।

अध्ययन में हुआ ये खुलासा

एम्स द्वारा किए गए इस स्टडी में 63 उन लोगों को शामिल किया गया था जो वैक्सीनेशन के बाद कोरोना संक्रमित हुए थे। इनमें से 36 को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी थीं, जबकि 27 को केवल एक डोज लगी थी। इन सभी में भारत में पहचान हुए कोरोना के नए वेरिएंट डेल्टा की पुष्टि हुई।

कोवैक्सीन है इन वेरिएंट्स पर प्रभावित

हालांकि राहत की बात ये है कि डेल्टा कोरोना वेरिएंट पर भारत बायोटेक की कोवैक्सीन असरदार बताई जा रही है। एक शोध में इस बात का दावा किया गया है कि कोवैक्सीन कोविड-19 के खतरनाक वेरिएंट डेल्टा और बीटा से सुरक्षा प्रदान करती है। कोवैक्सीन बीटा और डेल्टा वेरिएंट्स के खिलाफ एंटीबॉडी बनाने में मददगार है।

बता दें कि हाल ही में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने भारत में पाए जाने वाले वेरिएंट्स का नामकरण किया है। देश में अक्टूबर 2020 में मिले कोरोना वेरिएंट B.1.617.2 G/452R.V3 का नाम डेल्टा वेरिएंट रखा गया है, जबकि भारत में ही मिले दूसरे कोरोना वेरिएंट B.1.617.1 का नाम कप्पा रखा गया है। वहीं, बीटा वेरिएंट (B.1.351) की खोज पहली बार दक्षिण अफ्रीका में हुई थी। शोध में सामने आया है कि इन दोनों वेरिएंट के खिलाफ कोवैक्सीन प्रभावी है।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story