×

ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत पर संसद में मचा घमासान, एक्शन में केंद्र, सभी राज्यों से मांगे आंकड़े

Monsoon Season: संसद में मॉनसून सत्र चालू हो गया है। इस दौरान सरकार की तरफ से दिए गए बयान पर राजनितिक घमासान शुरू हो गया है।

Network

NetworkNewstrack NetworkShwetaPublished By Shweta

Published on 27 July 2021 2:56 PM GMT

ऑक्सीन की कमी से मरते हुए लोग
X

ऑक्सीन की कमी से मरते हुए लोग ( फोटो सौजन्य से सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Monsoon Season: संसद में मॉनसून सत्र चालू हो गया है। इस दौरान सरकार की तरफ से दिए गए बयान पर राजनितिक घमासान शुरू हो गया है। केंद्र सरकार की तरफ से संसद में कहा गया था कि कोरोना के समय देश में ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत का कोई आंकड़ा नहीं है। सरकार के इस बयान के बाद से विपक्ष के नेताओं के साथ ही बीजेपी पार्टी के कुछ नेताओं ने खुलकर इस बयान पर असहमति व्यक्त करने लगे।

बता दें कि देश में ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई मौत पर जब नेताओं ने केंद्र सरकार को घेरा तो सरकार हरकत में आ गई। जानकारों की मानें तो सरकार ने अब सभी राज्यों में कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी से मौत के आंकड़े मांगे हैं। सरकार ने सभी राज्यों से ये कहा है कि जो भी लोग कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीन की कमी दम तोड़े है उन सभी के आंकड़े जल्द से जल्द उपलब्ध कराए जाए।

मॉनसून सत्र में पेश किए जाएंगे आंकड़े

बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर के समय ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों के आंकड़े इस मॉनसून सत्र में संसद में केंद्र सरकार को पेश करना होगा। दरअसल स्वास्थ्य मंत्राय की और से सदन में कहा गया था कि राज्य और केंद्र शासित प्रदेश में ऑक्सीनज की कमी से हुई मौतों की कोई जानकारी नहीं है।

देश में कोरोना केस

आपको बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज यानी 27 जुलाई को कोरोना के ताजा आंकड़े जारी किए हैं। इस आंकड़े के अनुसार पिछले 24 घंटे में 29,689 नए केस सामने आए हैं। जबकि पिछले 24 घंटे में 416 लोगों को मौत हो चुकी है। वहीं एक दिन में कोरोना से 42,363 लोग रिकवर हुए हैं। गौरतलब है कि देश में कोरोना से अब तक कुल 4,21,382 लोगों की मौत हो गई है। फिलहाल देश में अभी भी कोरोना के 3,98,100 एक्टिव केस हैं।

Next Story