×

Coronavirus Third Wave In India: अगले महीने के अंत तक दस्तक दे सकती है कोरोना की तीसरी लहर, ICMR ने बताए चार कारक

Coronavirus Third Wave In India: आईसीएमआर (ICMR) ने बताया है कि अगले महीने यानी अगस्त के अंत तक भारत में कोरोना वायरस की तीसरी लहर दस्तक दे सकती है।

Network
Published on 16 July 2021 4:14 AM GMT
Coronavirus Third Wave
X

कोरोना नियमों का उल्लंघन (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Coronavirus Third Wave In India: कोरोना वायरस की तीसरी लहर को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (Indian Council of Medical Research) ने भारत को चेताया है। आईसीएमआर (ICMR) ने बताया है कि अगले महीने यानी अगस्त के अंत तक भारत में कोरोना वायरस की तीसरी लहर (Coronavirus Third Wave In India) दस्तक दे सकती है। आईसीएमआर ने ये भी कहा है कि ये लहर दूसरी लहर की अपेक्षा कम हो सकती है।

आईसीएमआर में नैदानिक विज्ञान / निदेशक कार्यालय में निदेशक और वैज्ञानिक जी के पद पर कार्यरत पर डॉ. समीरन पांडा (Dr. Samiran Panda) ने भारत में कोरोना की तीसरी लहर के बारे में जानकारी साझा की है। वर्तमान में डॉ. समीरन पांडा महामारी विज्ञान और संक्रामक रोगों के हेड (Head of Epidemiology and Infectious Diseases) है।

भारत में कोरोना की तीसरी लहर आने के चार कारक- डॉ. समीरन

डॉ. समीरन पांडा ने आशंका जताई है कि कोरोना की तीसरी लहर पूरे देश देखने को मिलेगी। हालांकि ये कोरोना की दूसरी लहर की तरह खतरनाक और तेजी से नहीं फैलेगी। इस दौरान उन्होंने कोरोना की तीसरी लहर के आने के चार प्रमुख बिंदु कारक भी बताया है। उन्होंने पहले कारण के बारे में जानकारी देते हुए बताया है, "कोरोना की पहली और दूसरी लहर के आने कारण है- इम्युनिटी का कम होना। अगर लोगों की इम्युनिटी कम होती है तो कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है।

डॉ. समीरन पांडा ने कोरोना की तीसरी लहर आने का दूसरा कारण के बारे बताते हुए कहा, "नया वेरिएंट अब तक प्राप्त की गई इम्युनिटी पर बढ़त बना सकता है।" इसी कारक को तीसरे कारक से जोड़ते हुए डॉ. पांडा ने बताया, " यदि वेरिएंट इम्युनिटी पर काबू पाने में सक्षम नहीं होता है तो इसकी प्रकृति तेजी से फैलने वाली हो सकती है।"

वही चौथे कारण के बारे में उन्होंने बताया, "राज्य सरकारों ने लॉकडाउन हटाने में जल्दीबाजी की है, जिसके कारण कोरोना संक्रमण के मामले में बढ़ोतरी हो सकती है।" इसके अलावा डेल्टा प्लस (Delta Plus) के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि देश में डेल्टा प्लस से किसी प्रकार की स्वास्थ्य के कहर के आने की आशंका नहीं है।

बतातें चलें कि आईसीएमआर (ICMR) ने कोरोना के नियमों का उल्लंघन पर पहले ही चिंता जता चुका है। आईसीएमआर ने पहले ही आगाह कर चुका है कि कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन महामारी के तीसरे लहर के आने का कारण बन सकती है।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story