×

दिल्ली में असुरक्षित लड़कियां: जान बचाने के लिए चलते ऑटो से कूदी लड़की, ऊपर वाले का नाम लेता ऑटो-ड्राइवर निकला दरिंदा

Delhi :दिल्ली के निर्भया कांड की आग जिसे भले ही सालों गुजर गए हो, लेकिन अभी भी शांत नहीं हुई हैं। इसके बाद भी लड़कियों के लिए दिल्ली आज भी सुरक्षित नहीं है। एक बार फिर दिल्ली से हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है।

Vidushi Mishra
Published on 22 Dec 2021 11:15 AM GMT
Chalti auto se kudi ladki
X

जान बचाने के लिए ऑटो से कूदी लड़की (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Delhi : दिल्ली जहां पर सबसे ज्यादा युवा पीढ़ी निवास करती है, वहां सुरक्षा के कितने इंतजाम हैं ये तो हर दिन होने वाली वारदातें ही बयां करती हैं। 24 घंटे चलने वाली राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में देश के कोन-कोन से लोग आते-जाते रहते हैं। दिल्ली के निर्भया कांड की आग जिसे भले ही सालों गुजर गए हो, लेकिन अभी भी शांत नहीं हुई हैं। इसके बाद भी लड़कियों के लिए दिल्ली आज भी सुरक्षित नहीं है। एक बार फिर दिल्ली से हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। राजधानी से सटे हरियाणा के गुरुग्राम की रहने वाली एक लड़की को ऑटोरिक्शा वाले ने अगवा करने की कोशिश की।

लड़कियों की भविष्य की बढ़ोत्तरी, कामयाबी और शिक्षा-दीक्षा के बड़े-बड़े वादे किए जाते हैं, पर लड़कियां अपनी आजाद जिंदगी जीने की मोहताज अभी भी हैं। हाल ही में हुए इस वाकया में एक ऑटोरिक्शा ड्राइवर (delhi autorickshaw driver) ने लड़की को दिन-दहाड़े अगवा करने की कोशिश की। इस दौरान अपनी जान बचाने के लिए लड़की को चलती ऑटो (chalti auto se kudi ladki) से कूदना पड़ा। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या दिल्ली वाकई में लड़कियों के लिए नहीं है। चाहे दिन हो या रात हो, हर समय लड़कियों के साथ हो रही इन वारदातों से कब छुटकारा मिलेगा।

ऑटोरिक्शा में बैठी लड़की

खुद ही किसी तरह अपनी जान बचाने वाली लड़की ने इस बारे में ट्वीट (Delhi Girl Nishtha tweet) करते हुए घटित वाकया को बताया है। लड़की ने ट्वीट किया कि ये घटना गुड़गांव के सेक्टर 22 में हुई, जो उसके घर से केवल सात मिनट की दूरी पर है। ऑटो से चलने के समय एकदम से ऑटोरिक्शा ड्राइवर(delhi autorickshaw driver) ने गलत रास्ते पर मोड़ लिया और फिर अनजान सड़क पर चलता रहा। ये देखकर लड़की ने विरोध भी किया, कि सही रास्ते चलो, लेकिन ऑटोरिक्शा ड्राइवर ने कोई जवाब नहीं दिया।

आगे लड़की ने ट्वीट कर बताया कि, "रविवार का दिन मेरी जिंदगी के सबसे डरावने दिनों में से एक था। क्योंकि मुझे लगभग अगवा कर ही लिया गया था। मैं नहीं जानती, वह क्या था, लेकिन कल जो भी हुआ उसे याद करके अब भी मेरे रोंगटे खड़े हो रहे हैं। दोपहर को लगभग 12:30 बजे, मैंने घर जाने के लिए सेक्टर 22 की मार्केट से एक ऑटो लिया, जो मेरे घर से लगभग सात मिनट की दूरी पर है।

लड़की ने बताई पूरी आपबीती

आपबीती बताते हुए लड़की ने लिखा कि "मैंने ऑटोरिक्शा ड्राइवर से कहा कि मैं उसे PayTM से पेमेंट करूंगी, क्योंकि मेरे पास नकद राशि नहीं थी। उसे देखने से प्रतीत हो रहा था कि वह उबर के लिए ऑटो चलाता था। पेमेंट की बात करने के बाद मैं ऑटो में बैठ गई।''

जब ऑटोरिक्शा ड्राइवर (delhi autorickshaw driver) गलत रास्ते ले जाने लगा तो मैं एकदम से चीखी- भैया, मेरा सेक्टर दाईं तरफ था, आप ऑटो बाईं तरफ में क्यों लेकर जा रहे हो। फिर उसने जवाब नहीं दिया और काफी ऊंची आवाज में ऊपर वाले(मैं धर्म का जिक्र नहीं करना चाहती, क्योंकि यह किसी धर्म से जुड़ा नहीं है) का नाम लेने लगा। का नाम लेता रहा।

इस दौरान मैंने ऑटो ड्राइवर के बाएं कंधे पर 8-10 बार मारा भी, लेकिन इससे भी उसे कोई असर नहीं हुआ। वो ड्राइवर और तेज स्पीड में ऑटो चलाने लगा। इसके बाद मेरे दिमाग में यही आया कि बाहर कूद जाओ। मेरे हिसाब से जब में ऑटो से कूदी उस समय ऑटो की स्पीड 35-40 (किलोमीटर प्रति घंटा) रही होगी। मेरे पास कूदने के अलावा कोई रास्ता नहीं था। मैं चलते ऑटो से बाहर की तरफ कूद गई। एक दम से मेरे में इतनी हिम्मत कहां से आ गई, मैं नहीं जानती।"

लड़की ने पुलिस को जानकारी का भी जिक्र करते हुए ट्वीट(Delhi Girl Nishtha tweet) में लिखा है कि इस घटना पर गुड़गांव के पालम विहार के पुलिस अधिकारी जितेंद्र यादव ने कहा कि वे ऑटोरिक्शा ड्राइवर(delhi autorickshaw driver) को जल्द ही पकड़ लेंगे। हालाकिं मैं ऑटोरिक्शा का नंबर नहीं नोट नहीं कर पाई। पर पुलिस को सीसीटीवी कैमरे से मदद मिल सकती है।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story