×

कोरोना की दूसरी लहर: मई तक हैं हालात खतरनाक, ICMR अध्यक्ष ने दी चेतावनी

ICMR के अध्यक्ष डा. अरोड़ा ने बताया 15 मई तक संक्रमण में और तेज होगी, इसके बाद धीरे धीरे रफ्तार नीचे आने की संभावना है।

Shreya
Updated on: 19 April 2021 10:19 AM GMT
कोरोना की रफ्तार में 15 मई तक आएगी तेजी
X

कोरोना जांच (फाइल फोटो- न्यूजट्रैक)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर (Covid-19 Second Wave) के साथ संक्रमण की रफ्तार बेकाबू हो चुकी है। कई राज्यों में हालात काफी ज्यादा बेकार होते जा रहे हैं। बीते 24 घंटे के दौरान भारत में कोरोना के करीब दो लाख 75 हजार नए मरीज (Corona Cases in India) सामने आए हैं। जबकि इस दौरान 16 से ज्यादा लोगों ने बीमारी के चलते अपनी जान गंवा दी है। 1 लाख 44 हजार लोग रिकवर हुए। जिसके बाद एक्टिव केस की संख्या 19 लाख के पार पहुंच गई है।

इस बीच कोविड-19 नेशनल टास्क फोर्स, ICMR के अध्यक्ष डा. नरेन्द्र कुमार अरोड़ा ने एक इंटरव्यू में बताया है कि अभी कोरोना वायरस की रफ्तार में तेजी बनी रहेगी। 15 मई तक संक्रमण में और तेज होगी, इसके बाद धीरे धीरे रफ्तार नीचे आने की संभावना है। जैसा पिछली बार देखा गया था। हालांकि इस बारे में उन्होंने कहा कि मैं कोई ज्योतिषी नहीं कि भविष्यवाणी कर सकूं।

सैनिटाइजेशन करते कर्मचारी (फोटो- न्यूजट्रैक)

लोग ऐसे करें कोरोना से बचाव

कोरोना के चलते पैदा हुई इस खतरनाक स्थिति से कैसे बचा जा सकता है, इस पर उन्होंने कहा कि लोग पूरी सावधानी बरते। साथ ही कड़ाई और सतर्कता के साथ कोरोना नियमों का पालन करें। लोगों से दूरी बनाकर रखें और मास्क जरूर लगाएं। इसके अलावा हाथों को सैनिटाइज करने के साथ ही उसे बार बार धोते रहें। उन्होंने कहा कि लोगों द्वारा लापरवाही बरती गई है, जिसका नतीज अब सामने आ रहा है। इसके साथ ही उन्होंने लोगों को खुद को बचाने के लिए टीका लगवाने की सलाह दी है।

क्या है वैक्सीन, ऑक्सीजन और दवा की कमी?

जब डा. नरेन्द्र कुमार अरोड़ा से वैक्सीन, ऑक्सीजन और दवा की कमी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि टीका पर्याप्त संख्या में उपलब्ध है। इसे कुछ लोग जानबूझकर समस्या का रूप दे रहे हैं। हालांकि उन्होंने ऑक्सीजन की कमी को लेकर कहा कि मैं इस बारे में नहीं बता पाऊंगा। जबकि रेमडेसिविर दवा को लेकर उन्होंने कहा कि यह चिकित्सकों द्वारा जरूरत के समय पर उपयोग की जाती है। इसलिए इसकी कोई समस्या नहीं है।

Shreya

Shreya

Next Story