×

Indo China Face-Off : भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबर, सेना ने किया खारिज

India-China Standoff: पूर्वी लद्दाख में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प होने की खबर को सेना ने खारिज किया है।

Network
Newstrack NetworkPublished By Shreya
Updated on: 24 May 2021 2:28 AM GMT
India-China Clash: गलवान में फिर भिड़े भारत-चीन! भारतीय सेना ने किया स्पष्ट
X

सांकेतिक फोटो साभार- सोशल मीडिया

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

India-China Standoff: पूर्वी लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) भारत और चीन के बीच रिश्ते बीते साल हुए झड़प के बाद से ही तनावपूर्ण हैं। गलवान (Galwan Valley) में हुई झड़प के बाद दोनों देशों के बीच कई दौर की बैठक के बाद सीमा पर हालात में सुधार देखा गया, लेकिन इस बीच एक बार फिर से गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच झड़प (India-China Clash) की खबर सामने आ रही है।

बताया जा रहा है कि हाल ही में गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिक फिर से भीड़ गए। हालांकि इसे 'छोटी झड़प' बताया गया। अब इस झड़प के संबंध में भारतीय सेना (Indian Army) की ओर से बयान जारी किया गया है। सेना ने मीडिया में आ रही इन रिपोर्टस पर स्पष्टीकरण जारी करते हुए इन खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है।

सेना ने खबरों को किया सिरे से खारिज

भारतीय सेना ने इन खबरों को गलत ठहराया है और स्पष्ट किया है कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय और चीनी जवानों के बीच मई 2021 के पहले हफ्ते में ऐसी कोई भी झड़प नहीं हुई है, जिसकी बात मीडिया रिपोर्ट में की गई है। हम यह साफ करते हैं कि भारत-चीन के जवानों के बीच में इस तरह की कोई घटना नहीं हुई है।

सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि यह रिपोर्ट उन स्रोतों से प्रेरित प्रतीत होता है जो पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में मुद्दों के शीघ्र समाधान के लिए चल रही प्रक्रिया को बेपटरी करने की कोशिश कर सकते हैं।

विदेश मंत्री ने कही ये बात

बता दें कि बीते दिनों विदेश मंत्री एस जयशंकर (Subrahmanyam Jaishankar) ने चीन के साथ आपसी संबंधों को मजबूत करने के बयान दिया था कि भारत और चीन के संबंध चौराहे पर हैं और इसकी दिशा इस बात पर निभर्र करती है कि चीन द्वारा सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए समझौतों का पालन किया जा रहा है या नहीं। जयशंकर ने कहा कि सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए 1993 और 1996 में दोनों देशों के बीच दो महत्वपूर्ण समझौते हुए थे।

फाइल फोटो साभार- सोशल मीडिया

बीते साल भारत-चीन के बीच हुई थी झड़प

गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच रिश्ते उस वक्त अधिक तनावपूर्ण हो गए जब बीते साल जून महीने में गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने साजिश के तहत भारतीय सैनिकों पर हमला बोल दिया। इस झड़प में भारत ने अपने 20 जवानों को खो दिया। हालांकि चीन की ओर भी काफी संख्या में जवान मारे गए थे और कई घायल भी हुए थे। वो बात और है कि पड़ोसी देश ने कभी अपने मारे गए सैनिकों को लेकर सही आंकड़ा जारी नहीं किया।

इसके बाद भी चीन ने सीमा पर नापाक हरकत करने की कोशिश की थी, लेकिन भारत ने जवाबी कार्रवाई करते हुए चीन को कई जगहों से पीछे खदेड़ दिया। एलएसी पर स्थिति काफी ज्यादा तनावपूर्ण होने के बाद दोनों देशों के बीच कई दौर की वार्ता हुई, जिसके बाद आपसी सहमति से सैनिकों को पीछे हटाने पर बात बनी। हालांकि ड्रैगन द्वारा डिस्‍इंगेजमेंट को लेकर काफी आनाकानी अब भी की जाती रही है।

LAC पर शुरू हुईं चीनी गतिविधियां

चीन ने एक बार फिर से एलएसी के पास गतिविधियां शुरू कर दी हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीनी सेना पूर्वी लद्दाख के डेप्थ इलाकों में अपनी तरफ सैन्य अभ्यास कर रही है। जिसके बाद भारतीय सेना भी पूरी तरह अलर्ट हो गई है। बताया जाता है कि चीनी सैनिक कई सालों से इन इलाकों में गर्मी के समय अभ्यास करते हैं। इसके साथ ही ये भी बताया गया है कि चीन की ओर से अपने ढांचे को मजबूत करने के लिए काम किया जा रहा है और वो अपने क्षेत्र में बंकरों का भी निर्माण कर रहे हैं।

भारतीय सेना है बिल्कुल तैयार

बता दें कि अभी हाल ही में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) ने सीमा पर भारतीय सेना की तैयारियों को लेकर जवाब दिया था। उन्होंने एक प्रतिष्ठित न्यूज चैनल से बात करते हुए देश को आश्वस्त किया कि देश की सेना ने ऐसी तैयारियां की हैं कि हमें कोई चकमा न दे सके। उन्होंने कहा कि हमने सेना को रिजर्व एरिया में रखा है, जिससे जरूरत पड़ने पर हम अपनी पसंद की जगह पर सेना की तुरंत तैनाती कर सकें।

Shreya

Shreya

Next Story