×

भारत हुआ मजबूत: नौसेना को मिला अत्याधुनिक आईएनएस वेला, चीन-पाकिस्तान अब नहीं टिक पाएंगे भारत के सामने

INS Vela In Indian Navy: आईएनएस वेला का निर्माण सरकार के स्वामित्व की मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (Mazagon Dock Shipbuilders Limited) द्वारा किया गया है ।

Rajat Verma

Rajat VermaPublished By Rajat VermaRagini SinhaPublished By Ragini Sinha

Published on 25 Nov 2021 8:00 AM GMT

INS Vela In India Navy
X

भारतीय नौसेना को मिला अत्याधुनिक आईएनएस वेला (social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

INS Vela In Indian Navy: भारतीय नौसेना द्वारा अपनी वर्तमान ताकत में इजाफे के तौर पर अत्याधुनिक तकनीकी से लैश पनडुब्बी (Submarine) आईएनएस वेला (INS Vela) को शामिल किया गया है। आईएनएस वेला का निर्माण सरकार के स्वामित्व की मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (Mazagon Dock Shipbuilders Limited) द्वारा किया गया है तथा निर्माण के अनुरूप आईएनएस वेला पनडुब्बी (INS Vela submarine) एक फ्रांसीसी डिजाइन के साथ स्कॉर्पीन श्रेणी के अंतर्गत आती है।

पनडुब्बी की भावना का प्रतीक भी है

पनडुब्बी का परम सिद्धांत 'सतर्क, बहादुर, विजयी' है तथा इसी के इसी के अनुरूप यह सिद्धांत पनडुब्बी द्वारा विभिन्न कार्यों को पूर्ण करने में पनडुब्बी की भावना का प्रतीक भी है। इसी विषय में विस्तृत रूप से जानकरी देते हुए नौसेना ने अपने एक बयान में कहा कि-"हमारे यह सिद्धांत पनडुब्बी के चालक दल को हमेशा सतर्क रहने के लिए प्रेरित करते हैं तथा पनडुब्बी के सामने आने वाली सभी चुनौतियों का सामना कर हर बार जीत हासिल करने के लिए भी तैयार करते हैं।"


पनडुब्बी का निर्माण कार्य 2009 में शुरू हुआ

इस पनडुब्बी (submarine ) का निर्माण कार्य जुलाई 2009 में शुरू हुआ था तथा निर्माण कार्य शुरू होने के कई सालों के बाद मई 2019 में इस पनडुब्बी का नाम आईएनएस वेला (INS Vela) रखा गया तथा पनडुब्बी में अत्याधुनिक तकनीकी से लैश मशीनरी और हथियार के परीक्षणों के बाद आईएनएस वेला को मझगांव डॉक शिपबिल्डर लिमिटेड (Mazagon Dock Shipbuilders Limited) द्वारा विगत माह इस पनडुब्बी को भारतीय नौसेना को सौंप दिया गया था।अत्यधुनिक तकनीकी से लैश आईएनएस वेला (INS Vela bharat ki takat) भारतीय नौसेना के लिए एक बहुत बड़ी ताकत के रूप में उभर कर सामने आ सकता है। इसके द्वारा भारतीय नौसेना को भी एक बेहतर आत्मविश्वास और ताकत मिलेगी और चीन-पाकिस्तान जैसे देशों को हम अब अपनी नौसेना के दम पर पछाड़ने का दम-खम रख सकते हैं। आईएनएस वेला में लैश शक्तिशाली डीजल प्रणोदन और अतिरिक्त वायु-स्वतंत्र प्रणोदन (Air Independent Propulsion) के साथ स्कॉर्पीन-श्रेणी के अंतर्गत आने वाली यह पनडुब्बी एक युद्धपोत के समान ही घातक साबित हो सकती है।

आईएनएस वेला की क्षमताएँ

  • लंबाई- 67.5 मीटर
  • पानी की सतह पर गति - 20 किमी/घंटा
  • पानी के भीतर गति - 37 किमी/घंटा

पानी की सतह पर मारक क्षमता-

15किमी/घंटा की रफ्तार से 1200 किमी तक

पानी के भीतर मारक क्षमता-

19किमी/घंटा की रफ्तार से 610 किमी

आईएनएस वेला के अंतर्गत 8 अधिकारी और 35 नाविक तैनात रहेंगे।

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story