×

Kisano Ki Baithak: सिंघु बॉर्डर पर किसान की आज अहम बैठक, MSP समेय अन्य मुद्दों पर होगी चर्चा

Kisano Ki Baithak: आज किसानों की बैठक होने जा रही है, जिसमें किसान पीएम मोदी के एलान के बाद पैदा हुए हालात और किसान आंदोलन की आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे।

Network
Updated on: 21 Nov 2021 2:16 AM GMT
Kisano Ki Baithak: सिंघु बॉर्डर पर किसान की आज अहम बैठक, MSP समेय अन्य मुद्दों पर होगी चर्चा
X

किसानों की बैठक (फोटो साभार- ट्विटर) 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Kisano Ki Baithak: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बीते शुक्रवार गुरुपर्व (Gurpurab) के मौके पर कृषि कानूनों की वापसी (Krishi Kanoon Ki Wapsi) का एलान कर किसानों को एक बड़ा तोहफा (Kisano Ko Tohfa) दिया। हालांकि इस घोषणा के बाद भी किसान संगठनों (Kisan Sangathan) ने अब तक अपने आंदोलन को जारी रखा है। साथ ही शनिवार को यह भी कहा कि जब तक सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) समेत उनकी अन्य मांगें नहीं मानती, तब तक यह धरना खत्म नहीं होगा।

इस बीच सिंघु बॉर्डर पर पंजाब से जुड़े किसान संगठनों ने कल बैठक की। जिसमें तय किया गया है कि लखनऊ में प्रस्तावित रैली (Lucknow Rally) और 29 नवंबर को संसद तक ट्रैक्टर मार्च (Tractor March) के आयोजन में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं होगा। हालांकि इस फैसले पर अंतिम मुहर रविवार को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक (Samyukt Kisan Morcha Ki Baithak) में लगेगी। इस बैठक में किसान प्रधानमंत्री मोदी के एलान (PM Modi Ka Elan) के बाद पैदा हुए हालात और किसान आंदोलन (Farmers Protest) की आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे।

महत्वपूर्ण मुद्दों पर हो सकता है फैसला

सिंघु बॉर्डर पर होने वाली संयुक्त किसान मोर्चा (Samyukt Kisan Morcha) की बैठक पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं। इस बैठक को काफी अहम माना जा रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि बैठक में गतिरोध को खत्म करने के लिए बातचीत, किसान आंदोलन (Kisan Andolan) की आगे की रणनीति समेत कुछ अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी फैसला किया जा सकता है। बता दें कि किसान संगठनों का कहना है कि जब तक न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की गारंटी और बिजली संसोधन कानून को रद्द नहीं किया जाता, तब तक हमारी आंदोलन खत्म करने की कोई योजना नहीं है।

अभी खत्म नहीं होगा किसान आंदोलन

इसके अलावा एक किसान नेता ने कहा कि दिल्ली बॉर्डर से अभी किसान आंदोलन खत्म नहीं होगा। हमारे कार्यक्रम अपने तय तारीख पर ही होंंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 29 नवंबर से रोजाना 500 किसान शीतकालीन सत्र (Sansad Ka Sheetkalin Satra) के दौरान संसद भवन तक ट्रैक्टर मार्च (Tractor March) निकालेंगे। बता दें कि शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरू होगा, जो कि 23 दिसंबर तक चलेगा। इसके अलावा अन्य कार्यक्रम भी अपने तय समय पर आयोजित होंगे।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story