×

Foreign Languages: विदेशी भाषाओं के सीखने से भी मिलेगा रोजगार

Foreign Languages: विदेशी भाषा के जानकारों के लिए रोजगार के बहुत अवसर हैं।

Sarojini Sriharsha
Published on 12 May 2022 7:04 AM GMT
Foreign languages learning
X

विदेशी भाषाओं के सीखने से भी मिलेगा रोजगार (Social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Foreign Languages: उदारीकरण एवं मुक्त अर्थव्यवस्था की नीति अपनाए जाने के बाद से हमारे देश में पर्यटन, व्यापार, शिक्षा एवं अनुसंधान ही नहीं बल्कि सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति हुई है, परंतु विकास के इस चरण में सबसे अधिक मांग बढ़ी है विदेशी भाषाओं का ज्ञान रखने वाले कर्मियों की। भाषा एक ऐसा माध्यम है जो सिर्फ दो दिलों को ही नहीं वरन दो देशों के बीच भी संपर्क सूत्र का कार्य करती है। रचनात्मक प्रतिभा के धनी, बहिर्मुखी प्रतिभा संपन्न नौजवान एवं नवयुवतियों विदेशी भाषाएं सीखकर अपने भविष्य को सुंदर ढंग से संवार सकते हैं।

कोई भी व्यक्ति हिंदी एवं अंग्रेजी भाषा के अलावा विदेशी भाषा सीखकर दुभाषिये या अनुवादक की नौकरी पा सकता है। इसके अतिरिक्त विदेशी दूतावासों के सूचना, संस्कृति, लेखा, पुस्तकालय , यातायात एवं कंप्यूटर जैसे महत्वपूर्ण विभागों में भी अच्छे रोजगार के अवसर उपलब्ध होते रहते हैं किसी भी देश के मंत्रालय या दूतावास में कार्य करने के लिए वहां की भाषा से परिचित होना बहुत आवश्यक है।

दूतावास में नौकरी कर सकते हैं

हमारे देश में रूस, अमरीका,जापान,फ्रांस,ब्रिटेन,कुवैत आदि देशों के दूतावास हैं। इस प्रकार इन देशों की भाषा जानने वालों को दुभाषिए के रूप में कार्य मिल सकता है। यदि संबंधित भाषाओं की आपको सम्यक जानकारी है तो आप दूतावास में नौकरी कर सकते हैं या किसी विदेशी प्रतिनिधि मंडल का मार्गदर्शन एवं संवाद संपर्खका बीड़ा उठा सकते हैं। कई बार विदेशी व्यवसायियों का दल भी व्यापार की संभावनाओं का पता लगाने आता जाता रहता है जिन्हें आपसी बातचीत हेतु दुभाषियों की आवश्यकता पड़ती है।

पर्यटन विभाग में भी पर्यटकों को मार्गदर्शक प्रदान करने हेतु दुभाषियों की आवश्यकता होती है। आज के उदारीकरण के तकनीकी युग में एक देश का दूसरे देश से इंटरनेट पर सीधे संबंध के माध्यम से भी मेलजोल काफी तेजी से बढ़ रहा है जिसके चलते इंटरप्रेटर्स की मांग तेजी से बढ़ रही है।

महत्वपूर्ण संस्थानों में भी रोजगार के अवसर

जनसंपर्क एवं पत्रकारिता के क्षेत्र में भी विदेशी भाषा के जानकारों के लिए रोजगार के अवसर अधिक आसानी से प्राप्त हो सकते हैं। विदेशी भाषा जानने वालों के लिए भारत सरकार के विदेश मंत्रालय , रक्षा मंत्रालय, विद्यालयों, अनुवाद संगठनों, विश्वविद्यालयों , होटलों, विमान सेवाओं , पर्यटन केंद्रों एवं अन्य महत्वपूर्ण संस्थानों में भी रोजगार के सुंदर अवसर उपलब्ध हो सकते हैं।

हमारे देश के कई विश्वविद्यालयों एवं दूतावासों में इस तरह के पाठ्यक्रम चलाए जा रहे हैं जिन्हे सीखकर संबंधित भाषा में प्रवीणता हासिल की जा सकती है। विदेशी भाषाओं के हमारे देश में तीन स्तरीय पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं - डिग्री पाठ्यक्रम, डिप्लोमा पाठ्यक्रम एवं सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम। यदिआप अपने व्यवसाय या प्रवास आदि के कारण सिर्फ भाषा ज्ञान प्राप्त करना चाहते हैं तो आपका काम सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम से चल जायेगा जो सामान्यतया छः माह या एक वर्ष का होता है। यदि आप इसी भाषा में अपना भविष्य संवारना चाहते हैं तो सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम से काम नहींचल पाएगा। इसके लिए आपको संबंधित विषय में एडवांस डिप्लोमा पाठ्यक्रम में शामिल होना चाहिए। जो लोग एडवांस डिप्लोमा तथा एम ए स्तर तक विदेशी भाषा की शिक्षा प्राप्त करते हैं उनमें से शायद ही कोई ऐसा हो जिसे जीविकोपार्जन के लिए भटकना पड़े, लेकिन सर्टिफिकेट कोर्स से काम चलाऊ ज्ञान ही हासिल किया जा सकता है।

हमारे देश के जिन प्रमुख विश्वविद्यालयों/संस्थानों में विदेशी भाषा के अध्ययन की सुविधा हैबुंका विवरण इस प्रकार है-

  • * लखनऊ विश्वविद्यालय लखनऊ
  • * इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद
  • *गोरखपुर विश्वविद्यालय,गोरखपुर
  • *अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
  • *बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी
  • *पंजाब विश्विद्यालय, चंडीगढ़
  • *जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • *दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
  • *स्कूल ऑफ लैंग्वेज, लोधी स्टेट, नई दिल्ली
  • *इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ ट्रेवल्स एंड टूरिज्म मैनेजमेंट, चाणक्यपुरी, नई दिल्ली
  • * कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, पटियाला

जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय नई दिल्ली स्थित स्कूल ऑफ लैंग्वेज नमक संस्थान द्वारा तो विदेशी भाषाओं में बी ए (ऑनर्स) तीन वर्षीय डिग्री कोर्स के अतिरिक्त पांच वर्षीय पाठ्यक्रम भी फ्रेंच, जर्मन, रशियन, फारसी, अरबी, इटालियन,स्पेनिश आदि भाषाओं में चलाए जाते हैं जिसमे प्रवेश हेतु राष्ट्रीय स्तर पर प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित होती है। विदेशी भाषा सीखना करियर की दृष्टि से कितना लाभदायक है इसका अनुमान लोगों को नहीं है। कई बार प्रतिष्ठित व्यापारिक संस्थान जो रिक्तियां घोषित करते हैननुन्मे किसी विदेशी भाषा के जानकार को प्राथमिकता देते हैं। यदि आप में लगन है तो आप भी इस क्षेत्र में अपना भविष्य उज्ज्वल बना सकते हैं।

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story