×

Hanuman Chalisa Row: हनुमान चालीसा के पाठ पर बढ़ा विवाद, शिवसैनिकों का भारी हंगामा, उद्धव के घर मातोश्री तक पहुंची आंच

Maharashtra Hanuman Chalisa Vivad: महाराष्ट्र में निर्दलीय सांसद नवनीत राणा (Navneet Rana) द्वारा मातोश्री पर हनुमान चालीसा का पाठ करने के ऐलान बाद आज शिवसैनिकों ने उनके घर बाहर किया हंगामा।

Anshuman Tiwari
Updated on: 23 April 2022 4:57 AM GMT
Shivsena workers create ruckus outside Navneet Rana house
X

महाराष्ट्र में शिवसैनिकों का हंगामा (तस्वीर साभार : सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Maharashtra Hanuman Chalisa Controversy: महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा के पाठ के विवाद की आंच अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के आवास मातोश्री तक पहुंच गई है। निर्दलीय सांसद नवनीत राणा (Navneet Rana,) और उनके विधायक पति रवि राणा (Ravi Rana) के मातोश्री पर हनुमान चालीसा का पाठ करने के ऐलान से राज्य की सियासत गरमा गई है। राणा दंपति को रोकने के लिए शिवसैनिकों ने शनिवार की सुबह से ही उनके आवास के बाहर हंगामा शुरू कर दिया। शिवसैनिक बैरिकेडिंग तोड़कर अंदर घुस गए और उन्होंने राणा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। शिवसेना नेता संजय राउत ने इसे पॉलीटिकल स्टंट बताते हुए राणा दंपति को बंटी और बबली की संज्ञा दी है।

दूसरी और राणा दंपति ने अपने ऐलान से पीछे न हटने की बात कही है। सांसद नवनीत राणा ने कहा है कि वे घर से बाहर निकल कर हनुमान चालीसा का पाठ करने अवश्य जाएंगी और इस दौरान यदि उन पर हमला किया जाता है तो इसकी पूरी जिम्मेदारी मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर होगी।

सांसद राणा को मुंबई पुलिस का नोटिस

सांसद नवनीत राणा के ऐलान के बाद लगातार शिवसेना नेताओं की ओर से उनके खिलाफ बयानबाजी की जा रही है। दोनों पक्षों के बीच विवाद गरमा जाने के बाद केंद्र सरकार की ओर से नवनीत राणा को वाई कैटेगरी की सुरक्षा प्रदान की गई है। नवनीत राणा अपने ऐलान को पूरा करने पर डटी हुई हैं तो दूसरी ओर मुंबई पुलिस का कहना है कि उन्हें अपने आवास से निकलने नहीं दिया जाएगा। राणा दंपति को इस बाबत मुंबई पुलिस की ओर से नोटिस भी भेजा गया है। मुंबई पुलिस की ओर से जारी नोटिस में कहा गया है कि यदि नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा ने आवास से निकलने की कोशिश की तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

शिवसैनिकों ने बैरिकेडिंग तोड़ी,भारी हंगामा

सांसद नवनीत राणा ने मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए सुबह 9 बजे का समय तय किया था मगर इससे पहले ही शिवसैनिकों का जत्था उनके आवास पर पहुंच गया। शिव सैनिकों ने उनके घर के बाहर जमकर हंगामा किया और बैरिकेडिंग तोड़कर आवास में घुसने की कोशिश की। शिव सैनिकों की ओर से राणा दंपति के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई।

नवनीत राणा के आवास के बाहर डटे शिवसैनिकों ने कहा कि जब तक राणा दंपति की ओर से अमरावती वापस लौटने का आश्वासन नहीं दिया जाता तब तक वे यहां से नहीं हटेंगे। शिव सैनिकों को शांत करने में मुंबई पुलिस के पसीने छूट गए। राणा दंपति के आवास के बाहर काफी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। राणा दंपति के ऐलान को देखते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास मातोश्री के बाहर भी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है।

राणा दंपति हनुमान चालीसा के पाठ पर अड़े

दूसरी ओर राणा दंपति का कहना है कि हमारे साथ बजरंगबली की ताकत है और हमें हनुमान चालीसा का पाठ करने से कोई रोक नहीं सकता। उन्होंने आरोप लगाया कि मुंबई पुलिस की ओर से उन्हें आवास से बाहर निकलने से रोका जा रहा है। उन्होंने शिवसेना पर सत्ता का दुरुपयोग करने का बड़ा आरोप भी लगाया। सांसद नवनीत राणा ने कहा कि हनुमान चालीसा का पाठ करने से रोकने का कदम दुर्भाग्यपूर्ण है।

अगर हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए भी मुख्यमंत्री से अनुमति लेनी पड़े तो इससे बड़ा दुर्भाग्य कुछ नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि वे विरोध झेलने के लिए तैयार हैं मगर अपने ऐलान से पीछे नहीं हटेंगी। सांसद ने कहा कि मैंने हनुमान चालीसा के पाठ के लिए मुख्यमंत्री को आमंत्रित किया था मगरवहे विदर्भ नहीं पहुंचे। सच्चाई तो यह है कि शिवसेना अपनी मूल विचारधारा से पूरी तरह पीछे हट गई है।

शिवसेना ने बताया बंटी और बबली

दूसरी और शिवसेना ने नवनीत राणा के इस ऐलान पर तीखी प्रतिक्रिया जताई है। पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कहा कि धर्म की आड़ में राणा दंपत्ति का यह स्टंट है। उन्होंने राणा दंपत्ति को बंटी और बबली बताते हुए कहा कि बेवजह विवाद पैदा करने की कोशिश की जा रही है। मुंबई के विभिन्न इलाकों में शिवसैनिकों के हंगामे के कारण कई स्थानों पर जाम भी लग गया।

शिवसेना की ओर से आगाह किया गया है कि राणा दंपति का ऐलान कभी पूरा नहीं होने दिया जाएगा। मनसे प्रमुख राज ठाकरे की ओर से हनुमान चालीसा को लेकर शुरू किए गए विवाद का अंत होता नहीं दिख रहा है। इसे लेकर राज्य की सियासत गरमा गई है। महाविकास अघाड़ी गठबंधन में शामिल एनसीपी ने भी राणा दंपति की घोषणा पर आपत्ति जताई है।

Bishwa Maurya

Bishwa Maurya

Next Story