Top

देश में तबाही सा मंजर: सेना से मांगी गई मदद, बेड के लिए तड़प रहे मरीज

महाराष्ट्र इस समय कोरोना वायरस के अब तक के सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है। ऐसे में राज्य का प्रमुख शहर पुणे

Vidushi Mishra

Vidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 7 April 2021 8:28 AM GMT

देश में तबाही सा मंजर: सेना से मांगी गई मदद, बेड के लिए तड़प रहे मरीज
X
फोटो-सोशल मीडिया
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पुणे: महाराष्ट्र इस समय कोरोना वायरस के अब तक के सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है। ऐसे में राज्य का प्रमुख शहर पुणे के हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। लगातार आ रहे कोरोना मामलों की वजह से निजी और सरकारी अस्पतालों में बिस्तर और वेंटिलेटर की कमी से जूझ रहे हैं। यहां हालात इतने ज्यादा बुरे हो गए हैं कि नगर निगम को सेना की मदद मांगनी पड़ रही है। इस बारे में दावा किया जा रहा है कि सेना मदद के लिए तैयार हो गई है। पुणे के सेना के अस्पताल में 335 बिस्तर और 15 वेंटिलेटर हैं। जिसके चलते पुणे म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ने सेना से अस्पताल के बिस्तर और वेंटिलेटर मुहैया कराने की अपील की है।

मरीजों को नहीं मिल रहे बेड

ऐसे में कहा जा रहा है कि इस मामले में सेना की तरफ से हरी झंडी मिल गई है। इस बारे में निगम आयुक्त का कहना है कि सेना की तरफ से शाम तक मदद मिल जाएगी। लेकिन पुणे में अभी 445 वेंटिलेटर हैं और सभी पर मरीजों का इलाज जारी है। पुणे के अलावा कोरोना वायरस से महाराष्ट्र के कई अन्य जिलों के भी कोविड स्थिति काफी खराब हो चुकी है।


हालात इतने ज्यादा विकट होते जा रहे हैं कि अस्पताल में एक बिस्तर या वेंटिलेटर के लिए मरीजों को रात-दिन घूमना पड़ रहा है। ऐसे में एक मरीज के परिजन ने बताया 'मैं रात से परेशान हूं। मेरी दादी पॉजिटिव है। शहर के सभी अस्पतालों के चक्कर लगा कर आया हूं। कही भी कोई बेड खाली नहीं है। बड़ी मुश्किल से यह एक बेड मिला है।'

संक्रमितों की संख्या हर घंटे बढ़ रही


इस समय भारत में कोरोना वायरस ने बहुत ही विकराल रूप धारण कर लिया है। बीते एक साल पहले थे, अब उससे भी अधिक गंभीर हालात बनते दिखाई दे रहे हैं। पिछले 24 घंटे में ही देश में 1.15 लाख से अधिक नए केस दर्ज किए गए हैं। जो कि बहुत ही खतरनाक इशारा है।

राजधानी दिल्ली, मुंबई और नागपुर जैसे शहरों में भी बेड्स की कमी दिखाई पड़ रही है। मुंबई में महाभयानक होते कोरोना की रफ्तार लगातार बढ़ रही है और हर रोज़ औसतन दस हजार केस सामने आ रहे हैं। ऐसे में बेड्स को लेकर लोगों में चिंता बढ़ी है।

वहीं बीएमसी के चार्ट के अनुसार, मुंबई में अभी कोरोना रिजर्व के 5400 के करीब बेड्स खाली हैं। बता दें, ये आंकड़ा 5 अप्रैल तक का है। जबकि मुंबई में करीब 17 हज़ार बेड्स भर चुके हैं। करीब 136 आईसीयू बेड्स खाली हैं। और 51 वेंटिलेटर बेड्स ही खाली बचे हैं। दूसरी तरफ संक्रमितों की संख्या हर घंटे बढ़ रही है।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story