×

हिजाब मामले में फैसला सुनाने वाले जजों को धमकाने वाला शख्स गिरफ्तार, जानिए वीडियो की हकीकत

Fact Check: सोशल मीडिया पर इन दिनों हिजाब विवाद को जोड़कर एक वीडियो में देखा जा सकता है। वीडियो में कुछ पुलिस के जवान एक अपराधी को लेकर जा रहे हैं। वायरल वीडियो को लेकर दावा किया जा रहा है कि ये वही शख्स है जो कर्नाटक हाईकोर्ट के जजों की हत्या करने की धमकी दे रहा था।

Krishna Chaudhary
Published on 29 March 2022 6:17 PM GMT
Fact check news
X

जजों को धमकाने वाला शख्स गिरफ्तार। 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Fact Check: कर्नाटक हिजाब विवाद (Karnataka Hijab Controversy) अभी पूरी तरह से शांत नहीं हुआ है। 15 मार्च को कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) द्वारा हिजाब (Karnataka Hijab Controversy) को मुस्लिम लड़कियों के लिए जरूरी मानने से इनकार करते हुए हिजाब के समर्थन में सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया गया था। हालांकि हिजाब का समर्थन कर रहे मुस्लिम संगठन हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जा चुके हैं। इस बीच हिजाब विवाद पर फैसला सुनाने वाले कर्नाटक हाईकोर्ट के जजों को कट्टरपंथियों द्वारा जान से मारने की धमकी मिलने लगी।

क्या हो रहा वायरल

सोशल मीडिया (Social Media) पर इन दिनों इस मामले से जोड़कर एक वीडियो जमकर वायरल किया जा रहा है। वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि कुछ पुलिस के जवान एक अपराधी को लेकर जा रहे हैं, अपराधी का चेहरा काले कपड़े से ढंका हुआ है। वायरल वीडियो को लेकर दावा किया जा रहा है कि ये वही शख्स है जो कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) के जजों की हत्या करने की धमकी दे रहा था।

वीडियो की पड़ताल

सोशल मीडिया पर वायरल किए जा रहे वीडियो की पड़ताल की गई तो हकीकत सामने आय़ा। दरअसल वीडियो में दिख रहा अपराधी वो इंसान नहीं है जिसने हिजाब मसले पर फैसला सुनाने वाले जजों को जान से मारने की धमकी दी थी। वायरल वीडियो में दिख रहा शख्स एमपी के मंदसौर जिले का रहने वाला कुख्यात बदमाश अमजद लाला है। 15 मार्च को अमजद पुलिस के हाथों मंदसौर हाईवे पर चढ़ गया था।

अमजद लाला पर टीआई पर गोली चलाने सहित किडनैपिंग, हत्या और फिरौती समेत कई संगीन मामले दर्ज हैं। बीते छह साल से फरार अमजद 65 हजार रूपये का इनामी बदमाश है। इस मामले से जुड़ी खबर भास्कर समेत अन्य वेबसाइटों पर भी पब्लिश हुई है। लिहाजा सोशल मीडिया पर वीडियो के साथ वायरल किया जा रहा दावा पूरी तरह से गलत और भ्रामक है।

देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story