×

Mansukh Hiren Murder Case: NIA का बड़ा खुलासा, प्रदीप शर्मा को बताया मुख्य साजिशकर्ता

Mansukh Hiren Murder Case: एनआईए ने बॉम्बे हाईकोर्ट में बड़ा दावा किया है। जांच एजेंसी ने मुंबई पुलिस के पूर्व अधिकारी और एनकाउंटर स्पेशिलिस्ट प्रदीप शर्मा को इस हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता बताया है।

Krishna Chaudhary
Written By Krishna ChaudharyPublished By Deepak Kumar
Updated on: 4 May 2022 2:08 PM GMT
Mansukh Hiren murder case
X

पूर्व पुलिस अधिकारी प्रदीप शर्मा। (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Mansukh Hiren Murder Case: मनसुख हिरेन हत्याकांड (Mansukh Hiren Murder Case) को लेकर राष्ट्रीय अन्वेषण एजेंसी (NIA) ने बॉम्बे हाईकोर्ट में बड़ा दावा किया है। जांच एजेंसी ने मुंबई पुलिस के पूर्व अधिकारी और एनकाउंटर स्पेशिलिस्ट प्रदीप शर्मा को इस हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता बताया है। इसके लिए बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वाझे ने शर्मा को 45 लाख रूपये दिए थे। एनआईए ने कोर्ट में दाखिल एक हलफनामे में कहा कि प्रदीप शर्मा ने मामले में अन्य आरोपियों के साथ पुलिस आयुक्त के कार्यालय परिसर में इस हत्यकांड की साजिश रची थी।

बता दें कि ठाणे के कारोबारी मनसुख हिरेन को उद्योगपति मुकेश अंबानी के परिवार को आतंकित करने की बड़ी साजिश में कमजोर कड़ी माना जाता था। मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर खड़ी कार का मालिक हिरेन ही थी, जो बाद में संदिग्ध अवस्था में मृत पाया गया था। इस मामले में पूर्व एनकाउंटर विशेषज्ञ और शिवसेना नेता प्रदीप शर्मा को एनआईए ने 17 जून 2021 को गिरफ्तार किया था। तब से वह न्यायिक हिरासत में है।

एनआईए ने जमानत का किया विरोध

एनआईए ने प्रदीप शर्मा की जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि वह निर्दोष नहीं है। उन्होंने आपराधिक षड्यंत्र, हत्या और आतंकी कृत्य जैसे क्राइम किए। एनआईए की दलील सुनने के बाद जस्टिस ए एस चादुरकर और जस्टिस जी ए सनप की खंडपीठ ने याचिका पर अगली सुनवाई की तारीख 17 जुलाई को तय की है।

बता दें कि मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी के दक्षिण मुंबई स्थित आवास एंटीलिया के पास 25 फरवरी 2021 को एक लावारिस एसयूवी मिली थी, जिसमें विस्फोटक था। जानकारी सामने आने के बाद हड़कंप मच गया था। जांच में पता चला कि इस गाड़ी के मालिक मनसुख हिरेन थे, जो कि पिछले साल ठाणे के एक दर्रे में संदिग्ध अवस्था में मृत मिले थे। इसके बाद ये मामला काफी पेचीदा हो गया और साथ ही इसे लेकर गंभीर सवाल भी उठने लगे। एनआईए ने अपने हलफनामे में साफ तौर पर प्रदीप शर्मा को मुख्य साजिशकर्ता बताते हुए कहा कि उन्होंने हिरेन की हत्या इसलिए कर दी, कहीं वो राज न उगल दे।

देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story