Top

कोविड त्रासदी पर विपक्ष ने केंद्र सरकार को दिये आठ सूत्र

बारह प्रमुख विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह मांग करते हुए पत्र लिखा है, कि केंद्र देश में कोविड के प्रसार रोकने के लिए तत्काल कार्रवाई करें।

Ramkrishna Vajpei

Ramkrishna VajpeiWritten By Ramkrishna VajpeiShwetaPublished By Shweta

Published on 12 May 2021 3:42 PM GMT

मोदी
X

मोदी 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: बारह प्रमुख विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को यह मांग करते हुए पत्र लिखा है, कि केंद्र देश में कोविड के प्रसार रोकने के लिए तत्काल कार्रवाई करें। जिसे उन्होंने "सर्वनाशी मानव त्रासदी" कहा है। विपक्षी दलों द्वारा सुझाए गए आठ उपायों में मुफ्त टीके, सेंट्रल विस्टा परियोजना पर काम रोका जाना और कृषि कानूनों को निरस्त किया जाना शामिल है।

पत्र में लिखा गया है, "हमने पहले भी स्वतंत्र रूप से और संयुक्त रूप से, बार-बार आपका ध्यान उन तमाम उपायों की ओर खींचा है, जो केंद्र सरकार द्वारा शुरू और कार्यान्वित किये जाने पूरी तरह से अपरिहार्य हैं। दुर्भाग्य से, आपकी सरकार ने इन सभी सुझावों की या तो अनदेखी कर दी है या उन्हें खारिज कर दिया है। जिसके चलते हालात आज सर्वनाशी मानव त्रासदी तक पहुंच गए हैं।

विपक्ष द्वारा भेजे गए पत्र में ये उपाय शामिल हैं।

वैश्विक और घरेलू सभी उपलब्ध स्रोतों से वैक्सीन की केंद्रीय खरीद हो।

तत्काल मुक्त, सार्वभौमिक सामूहिक टीकाकरण अभियान चले

घरेलू वैक्सीन उत्पादन का विस्तार करने के लिए अनिवार्य लाइसेंसिंग हो

टीकों के लिए 35,000 करोड़ का बजटीय आवंटन किया जाए

सेंट्रल विस्टा निर्माण को रोकना और ऑक्सीजन और टीकों के लिए धन का उपयोग करना

"निजी ट्रस्ट में रखे गए बेहिसाब फंड" (पीएमकेयर्स) के सभी पैसों को टीके, ऑक्सीजन और चिकित्सा उपकरण खरीदने के लिए जारी करना

बेरोजगारों के लिए प्रति माह 6000 रुपये भत्ता

जरूरतमंदों को खाद्यान्न का मुफ्त वितरण

कोविड पीड़ित किसानों की रक्षा के लिए कृषि कानूनों को निरस्त करना

CommentsThe letter was signed by representatives of all key political parties except Mayawati's Bahujan Samaj Party and Arvind Kejriwal's Aam Aadmi Party.

पत्र पर बहुजन समाज पार्टी की नेता मायावती (Mayawati)और आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal)को छोड़कर सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों द्वारा हस्ताक्षर किए गए हैं।

Shweta

Shweta

Next Story