×

Monsoon Session: अब तक 133 करोड़ का हुआ नुकसान, विपक्षियों का हंगामा बना वजह

Parliament Monsoon Session 2021: जब से मानसून सत्र की शुरुआत हुई है, तब से करदाताओं के 133 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो चुका है।

Network

NetworkNewstrack NetworkShreyaPublished By Shreya

Published on 1 Aug 2021 6:58 AM GMT

Monsoon Session: अब तक 133 करोड़ का हुआ नुकसान, विपक्षियों का हंगामा बना वजह
X

संसद भवन (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Parliament Monsoon Session 2021: जब से मानसून सत्र की शुरुआत हुई है, तब से करदाताओं के 133 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो चुका है। जी हां, 133 करोड़ रुपये का नुकसान और इतना बड़ा नुकसान हुआ है विपक्षी दलों के हंगामे की वजह से। सत्र के शुरुआत होने के बाद से पेगासस जासूसी केस (Pegasus Hacking Case), कोरोना वायरस (Corona Virus) और नए कृषि कानूनों (New Farm Laws) समेत कई मुद्दों पर विपक्षी दलों के विरोध की वजह से इतने करोड़ रुपये पानी में बह गए।

दरअसल, संसद ने 107 घंटों के निर्धारित समय में से केवल 18 घंटे ही काम किया, इसी वजह से यह नुकसान हुआ है। सरकारी सूत्रों के हवाले से शनिवार को यह जानकारी मिली है कि मानसून सत्र में अब तक 89 घंटे बर्बाद हो चुके हैं। राज्यसभा अपने निर्धारित समय से लगभग 21 फीसदी ही चली, जबकि लोकसभा ने 13 फीसदी से भी कम समय काम किया। आपको बता दें कि 19 जुलाई को शुरू हुआ सत्र 13 अगस्त को समाप्त होने वाला है।

पैसे और समय की बर्बादी

बताया गया है कि लोकसभा में निर्धारित 54 घंटों में से केवल सात घंटे ही काम हुआ, वहीं राज्यसभा में संभावित 53 घंटों में से 11 घंटे ही काम हुआ। यानी संसद ने कुल 107 घंटों में से केवल 18 घंटे (16.8 प्रतिशत) ही काम किया और बाकी 89 घंटे बर्बाद हुए हैं। संसद में हुए हंगामे से न केवल समय की बर्बादी समय हुई है बल्कि करदाताओं के 133 करोड़ रुपये से अधिक भी बर्बाद हो गए हैं।

गौरतलब है कि जब से संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू हुई है, तब से पेगासस जासूसी, कृषि कानूनों और अन्य मुद्दों पर विपक्ष की ओर से हंगामा किया जा रहा है। विपक्ष की ओर से इन मुद्दों पर चर्चा किए जाने को लेकर मांग की जा रही है और इसी वजह से कार्यवाही में बार बार अड़चन आ रही है। वहीं इस वजह से अधिकांश विधेयक लटके हुए हैं। हालांकि हंगामे के बीच लोकसभा में विनियोग विधेयक के अलावा महज पांच विधेयक पारित हुए। राज्यसभा में भी करीब इतने ही बिल पास हो चुके हैं।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story