×

Sneha Dubey IFS : देश की बेटी स्नेहा दुबे ने भरी सभा में पाकिस्तान को दिखाई औकात, जानें कौन है ये 'सुपर गर्ल'

Sneha Dubey IFS : न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की 76वीं सालाना बैठक चल रही है। इस बैठक में दुनियाभर के देश शामिल हुए हैं। ऐसे में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की झूठी दलीलों का पर्दाफाश करते हुए स्नेहा दुबे में सच पूरी दुनिया को बता दिया।

Vidushi Mishra

Vidushi MishraWritten By Vidushi Mishra

Published on 25 Sep 2021 9:59 AM GMT

Sneha Dubey
X

स्नेहा दुबे (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Sneha Dubey IFS : सयुंक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly) की 76 वीं सालाना बैठक में इस बार भी पाकिस्तान की बोलती भारत ने बंद कर दी। भारत की बेटी स्नेहा दुबे ने कश्मीर का राग अलाप रहे इमरान खान (Imran Khan) की दुनियाभर के देशों के सामने पोल खोल कर रख दी। दुनिया के सामने भारत को नीचा दिखाने की कोशिश कर रहे पाकिस्तान को काफी ज्यादा भारी पड़ गया। स्नेहा दुबे में जिस तरह से बैठक में राइट टू रिप्लाई दिया, उससे पूरे देश में उनकी वाह-वाह हो रही है।

गौरतलब है कि न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा(United Nations General Assembly) की 76वीं सालाना बैठक चल रही है। इस बैठक में दुनियाभर के देश शामिल हुए हैं। ऐसे में पाकिस्तान की प्रधानमंत्री की झूठी दलीलों का पर्दाफाश करते हुए स्नेहा दुबे में सच पूरी दुनिया को बता दिया। ये देखिये स्नेहा दुबे के जवाब देने वाला वीडियो। जोकि सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा और पूरा देश वाह-वाही देने में लगा है।

सयुंक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में इमरान ख़ान ने कश्मीर में मानवाधिकारों के गंभीर उल्लंघन का आरोप लगाते हुए बीजेपी सरकार पर मुस्लिमों के ख़िलाफ़ डर का माहौल पैदा करने का इल्जाम थोपा था। साथ ही पाक पीएम इमरान ने इस्लामोफ़ोबिया का भी ज़िक्र किया।

ये थे इमरान के बोल

इस बारे में इमरान खान के बोल इस प्रकार थे- ''भारत अपने फ़ैसलों और कार्रवाई से जम्मू-कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि विवादित इलाक़े का समाधान यूएन की निगरानी में निष्पक्ष जनमत संग्रह से होगा। भारत कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार नियमों का भी उल्लंघन कर रहा है। मुझे खेद है कि कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर दुनिया का रुख भेदभावपूर्ण है।'

ऐसे में भारत की पहली सेक्रेटरी स्नेहा दुबे ने पाक पीएम को सख्त रूख में जवाब दिया। जिसमें स्नेहा दुबे ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के आंतरिक मामलों को दुनिया के मंच पर लाने और झूठ फैलाकर भारत की छवि खराब करने की कोशिश की है। उनके इन आरोपों पर हमने अपने राइट टू रिप्लाई का इस्तेमाल किया है।

स्नेहा दुबे ने पाकिस्तान को जवाब देते हुए कहा - 'जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के संपूर्ण केंद्र शासित प्रदेश भारत के अभिन्न और अविभाज्य अंग थे, हैं और रहेंगे। इसमें वे भी क्षेत्र शामिल हैं जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे में हैं। हम पाकिस्तान से उसके अवैध कब्जे वाले सभी क्षेत्रों को तुरंत खाली करने के लिए कहते हैं।

यूएन में स्नेहा दुबे ने कहा कि पाकिस्तान, वो मुल्क है, जहाँ आतंकवादी स्वतंत्र रहते हैं। पाकिस्तान वो मुल्क है, जो अपने पड़ोसियों को परेशान करने के लिए पीछे से आतंकवाद प्रायोजित कर रहा है।

वहीं स्नेहा दुबे ने बेहद कड़े रूख में पाकिस्तान को जवाब देते हुए कहा कि पाकिस्तान वास्तव में आग लगाने वाला है लेकिन वो ख़ुद को अग्निशामक के रूप में देखता है। ये है भारत की बेटी स्नेहा दुबे। चलिए जानते है कौन है स्नेहा दुबे। (Who Is Sneha Dubey?)

स्नेहा दुबे के बारे में (Sneha Dubey Biography)

स्नेहा दुबे सयुंक्त राष्ट्र महासभा (United Nations) में भारत की पहली सचिव है।

स्नेहा दुबे गोवा में बड़ी हुई है। अपने बचपन का ज्यादा समय उन्होंने वहीं बिताया है।

स्नेहा दुबे की शिक्षा-दीक्षा
Sneha Dubey qualification

स्नेहा ने पुणे के फर्ग्यूसन कॉलेज से ग्रेजुएट किया। उसके बाद नई दिल्ली के जवाहरलाल विश्वविद्यालय (जेएनयू) से भूगोल में परास्नातक किया। फिर स्नेहा दुबे ने वहीं से स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज से एमफिल की पढ़ाई पूरी की।

पढ़ाई पूरी करने के बाद ही स्नेहा ने वर्ष 2011 में पहली बार में ही सिविल सेवा परीक्षा पास की थी।

स्नेहा दुबे का सपना
Sneha Dubey Dream

स्नेहा को घूमना-फिरना काफी पसंद है। साथ ही उन्हे भारतीय विदेश की सेवा में शामिल होना सपना था। अपनी काबिलियत के दम पर आईएफएस बनकर उन्होंने देश का प्रतिनिधित्व करने का बेहतरीन मौका हासिल कर लिया।

देश-विदेश सेवा के लिए स्नेहा दुबे की पहली नियुक्ति विदेश मंत्रालय में हुई थी। इसके बाद फिर अगस्त 2014 में, उन्हें मैड्रिड में भारतीय दूतावास में नियुक्त किया गया।


Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story