Top

Spyware Hacking: देश के 300 मंत्रियों और पत्रकारों की जासूसी, इजराइली साॅफ्टवेयर Pegasus से कैसे हुए नंबर हैक

Spyware Hacking Kya Hai : वहीं जिस Pegasus स्पाईवेयर साॅफ्टवेयर के जरीए हैकिंग करने का दावा किया जा रहा है, उसे इजराइल की कंपनी NSO Group ने बनाया है।

Shivani

ShivaniWritten By Shivani

Published on 19 July 2021 5:37 AM GMT

Espionage of 300 ministers and journalists of the country, how numbers were hacked by Israeli software Pegasus
X

इजराइली साॅफ्टवेयर Pegasus (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Spyware Hacking Kya Hai: देश की सुरक्षा और मंत्रियों व पत्रकारों की नीजिता के विपरीत अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने भारत को लेकर बड़ा दावा किया है। अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने जो रिपोर्ट पेश की है, उससे हर कोई दंग रह जाएगा। दावा किया जा रहा है कि एक Pegasus Spyware नाम के एक इजराइल के साॅफ्टवेयर के जरीए भारत के मंत्री, नेताओ, पत्रकारों और कई अन्य लोगों के फोन हैक किए गए हैं। Pegasus Software के जरीए देश के लगभग 300 लोगों की जासूसी की जा रही है।

Whatsapp, Facebook समेत तमाम सोशल साइट्स के जरीए देश के लोगों की प्राइवेसी पाॅलिसी का मुद्दा लगातार उठता रहता है लेकिन देश के दिग्गज लोगों के फोन की टैपिंग और जासूसी करने का नया मामला सामने आया है। कई विदेशी मीडिया एजेंसियों ने बीते दिन एक रिपोर्ट जारी की थी, जिसमें भारत को लेकर ऐसा खुलासा किया गया, जिसके बाद सरकार की जासूसी का मामला संज्ञान में आया।

भारत में Pegasus Spyware से 300 पत्रकारों, नेताओं व मंत्रियों की जासूसी

कहा गया कि Pegasus सॉफ्टवेयर की मदद से कई देशों की सरकारें अपने यहां के कुछ चिन्हित लोगों के फोन हैक कराकर उनकी नीजि बातचीत व जानकारियां हासिल कर रही हैं। जिन देशों की सरकारें ऐसा कर रहीं हैं, उसमें भारत सरकार का भी नाम है। यानि मौजूदा मोदी सरकार कुछ भारतीयों के फोन टेप करवा रही है, ऐसा दावा किया जा रहा है।

फोटो- सोशल मीडिया

जानकारी के मुताबिक, मोदी सरकार भारत के कई पत्रकारों, विपक्षी दलों के नेताओ के अलावा मंत्रियों तक के फोन हैक करवाकर उनकी जासूसी कर रही है। रिपोर्ट में करीब 300 फोन नंबर हैक किए जाने का दावा किया गया। इतना ही नहीं विदेशी मीडिया की इस डिटेल रिपोर्ट में ये भी बताया गया कि सरकार ने अधिकतक फोन नंबरों को साल 2018 और 2019 के बीच हैक किया था। रिपोर्ट की पहली कड़ी में कई पत्रकारों के नाम का खुलासा हुआ, जिनके नंबर हैक किए गए।

Pegasus के जरीए फोन हैकिंग पर सरकार की प्रतिक्रिया

हालांकि मामला खुलने के बाद जहां विपक्ष ने मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए सवाल खड़े कर दिए, वही केंद्र ने इस सभी आरोपों को गलत बताया है। सरकार ने साफ इनकार कर दिया कि वह किसी भी तरह की हैकिंग में शामिल नहीं हैं। सरकार की ओर से कहा गया कि ये भारतीय लोकतंत्र की छवि बिगाड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

इजराइल की कम्पनी की प्रतिक्रिया

वहीं जिस Pegasus स्पाईवेयर साॅफ्टवेयर के जरीए हैकिंग करने का दावा किया जा रहा है, उसे इजराइल की कंपनी NSO Group ने बनाया है। मीडिया रिपोर्ट सामने आने के बाद इजराइली कंपनी NSO ग्रुप ने अपना पक्ष स्पष्ट करते हुए बयान जारी किया। कंपनी का कहना है कि जो रिपोर्ट सामने आई है, उसका सोर्स अनजान है और गलत जानकारी दी जा रही है। रिपोर्ट छापने वाली मीडिया एजेंसी पर इजरायली कंपनी ने मानहानि का केस करने को कहा है।


हालांकि एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने कहा था कि वह ये साॅफ्टवेयर सिर्फ किसी देश की सरकार को ही बेच सकती है। सरकार उसका इस्तेमाल कैसे करती है, इसकी जिम्मेदारी कंपनी की नहीं है।

क्या है Pegasus Spyware (Kya hai Pegasus Software)

देश मे जिस Pegasus की वजह से विवाद खड़ा हो गया है, उसके बारे में भी जान लेते है। दरअसल, Pegasus को इजराइल की कंपनी NSO Group ने तैयार किया है। एनएसओ ग्रुप यानि ये इजराइली कंपनी साइबर वेपन्स (Israel Weapon Company) बनाने के लिए प्रसिद्ध है। Pegasus एक स्पाईवेयर सॉफ्टवेयर है। Pegasus के जरीए किसी की जासूसी की जा सकती है। इसके पहले साल 2019 में Pegasus चर्चा में आ चुका है। तब कई WhatsApp यूजर्स को वॉट्सऐप की तरफ से मैसेज मिला कि उनके फोन को Pegasus की मदद से हैक किया जा रहा है।

Shivani

Shivani

Next Story