×

Monsoon Session 2021: टीएमसी सांसद शांतनु हुए पूरे सत्र के लिए सस्पेंड, केंद्रीय मंत्री के साथ अभद्रता का आरोप

Monsoon Session 2021: केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव के साथ टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने अभद्रता किया है।

Network

NetworkNewstrack NetworkShwetaPublished By Shweta

Published on 23 July 2021 8:07 AM GMT

शांतनु सेन
X

 शांतनु सेन ( फोटो सौजन्य से सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Monsoon Session 2021: केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव के साथ टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने अभद्रता किया है। जिसके बाद से टीएमसी सांसद शांतनु सेन को निलंबित कर दिया गया है। राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव से टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने उनसे कागज छीन लिया। इस घटना के बाद राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री अश्विनी ने शांतनु सेन के खिलाफ निलंबनि का प्रस्ताव पेश किया।

जिसके बाद शांतनु सेन को पूरे मानसून सत्र से निलंबित कर दिया गया। बता दें कि सदन में 11 बजे सभापति एम वेंकैया नायडू कार्यवाही शुरू होते ही गुरुवार को हुई इस घटना की चर्चा करते हुए इसे अशोभनीय बताया। एम वेकैया नायडू ने कहा कि कल जो कुछ भी हुआ जिससे निश्चित रूप से सदन की गरिमा पर प्रभाव पड़ा है।

टीएमसी सांसदों ने जमकर किया हंगामा

आपको बताते चलें कि गुरुवार के दिन सूचान प्रौद्योगिकी और संचार मंत्री अश्विनी वैष्णवी सदन में जासूसी के मुद्दे को लेकिर सदन में बयान दे रहे थे। उस समय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसद शांतनु सेन और अन्य विपक्ष दल सांसद में हंगाम शुरू कर दिए।

और नारेबाजी करने लगे। तभी कांग्रेस सांसद शांतनु सेन ने केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथ से बयान छीन लिए और टुकड़े करके हवा में फेंक दिया। इस बीच उपसभापति हरिवंश ने शांत होनी के लिए अनुरोध किया लेकिन किसी ने उनकी भी बात नहीं सुनी।

हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही स्थगित

आपको बता दें कि हंगामे के कारण वैष्णव को बयान देने में कठिनाई हुई और उन्हें यह सदन के पटल पर रखना पड़ा। दो बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई थी उपसभापति हरिवंश ने बयान देने के लिए वैष्णव का नाम पुकारा। विपक्षी सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया गया था। वैष्णव ने बयान की शुरुआत की ही थी कि हंगामा और तेज हो गया। हंगामे के कारण उनकी बात नहीं सुनी गई। उपसभापति ने विपक्षी दलों के रवैये को 'असंसदीय' करार दिया और केंद्रीय मंत्री से बयान को सदन के पटल पर रखने का आग्रह किया था।

Next Story