Top

24 घंटे में 3 लाख से अधिक संक्रमित, फिर भी जारी हैं चुनावी रैलियां

बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की चुनावी रैलियां लगातार जारी हैं। रैलियां बंद की भाजपा की कोई मंशा नहीं दिख रही।

Shivani

ShivaniWritten By Shivani

Published on 22 April 2021 9:59 AM GMT

24 घंटे में 3 लाख से अधिक संक्रमित, फिर भी जारी हैं चुनावी रैलियां
X

शाह की रैली (Photo-Social Media)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। देश में प्रतिदिन रिकॉर्ड तोड़ नए संक्रमित केस मिल रहे हैं। हालांकि केंद्र से लेकर राज्य सरकारें अपने अपने स्तर पर संक्रमण के प्रसार को रोकने में लगी हुईं हैं लेकिन संक्रमण जितनी तेजी से फ़ैल रहा है, उससे यहीं प्रतीत होता है कि या तो सरकार कोरोना को काबू करने में कारगर उपाय नहीं कर पा रही या करना नहीं चाहती।

सरकार कोरोनावायरस को फैलने से रोकना ही नहीं चाहती, ऐसा लगातार सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है। ट्वीट-फेसबुक पर इसे लेकर यूजर्स लगातार वाद विवाद कर रहे हैं। अपने तर्क को सिद्ध करने के लिए सोशल मीडिया पर इस तरह के सवाल उठ रहे हैं कि जब संक्रमण इतनी तेजी से फ़ैल रहा है तो सरकार, ख़ास कर भाजपा संक्रमण रोकने के बजाए रैलियों में क्यों व्यस्त है।


बंगाल में मोदी-शाह की रैलियां जारी

बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की चुनावी रैलियां लगातार जारी हैं। हालाँकि पिछले दिनों कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने की मंशा से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैलियों में मात्र 500 लोगों के शामिल होने का आदेश दिया था लेकिन रैलियां बंद करने को लेकर भाजपा की कोई मंशा नहीं दिखी। वहीं कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपनी साड़ी रैलियां रद्द करने का एलान करते हुए विपक्षी दलों को भी रैलियां न करने का आग्रह किया था।

भाजपा के लिए राजनीति कोरोना से ज्यादा अहम?

ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि जब विपक्ष कोरोना की रोकथाम को लेकर राजनीति भूल प्रोटोकॉल का पालन कर सकता है तो सत्ताधारी पार्टी और ख़ास के सर्वोच्च पद पर आसीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के लिए महामारी के संकट से ज्यादा अहम राजनीति कैसे हो गयीं?

प्रधानमंत्री ने कोरोना संकट में नारा दिया, 'दो गज दूरी और मास्क है जरुरी', लेकिन उनकी रैलियों में आने वाले लोगों में कितने गज की दूरी और कितनों ने मास्क पहन रखा होता है। गृह मंत्री अमित शाह की एक फोटो भी जमकर वायरल हो रही हैं, जिसमें वह भीड़ के बीच एक बच्चे से मिल रहे हैं। न तो उन्होंने मास्क पहना है और न ही बच्चो ने। इस फोटो के साथ कैप्शन दिया गया कि 'स्कूल जाते तो संक्रमित हो जाते, रैली में आये हो तो बच जाओगे।'


स्कूल बंद-परीक्षाएं स्थगित तो रैलियां क्यों नहीं?

भले ही सोशल मीडिया पर वायरल ये तस्वीर भाजपा पर तंज है लेकिन आम लोगों के सवाल तो कहीं न कहीं सही ही हैं। जब स्कूल बंद हैं, परीक्षाएं स्थगित हो गयीं हैं, नाइट कर्फ्यू, वीकेंड लॉकडाउन लागू है। आम जन बंद का सामना कर रही है तो रैलियां क्यों रद्द नहीं हो रही। वहीं इस बीच आज बंगाल में छठे चरण के मतदान भी हैं।

भारत में कोरोना का आंकड़ाः

देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 3.15 लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैं। बीते 24 घंटे में 2,101 कोरोना मरीजों की मौत हुई है। कोरोना संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने की दर गिरकर 84.5 फीसदी हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, कोरोना वायरस से स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 1,34,47,040 हो गई है।

Shivani

Shivani

Next Story