बुलंदशहर: नए कोतवाल की राह देख रही है ये कोतवाली

बुलंदशहर: उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के सलेमपुर क्षेत्र में एक परिवार के तीन बच्चों की हत्या से सनसनी फैल गई थी। वारदात के बाद हत्यारें ने बच्चों के शव कुएं में फेंक दिए थे। वहीं पुलिस ने जब मामले की जांच शुरू की को सिटी कोतवाली पुलिस की लापरवाही सामने आई थी। जिसके बाद एसएसपी ने सख्त कार्रवाई करते हे कोतवाल और मुंशी को सस्पेंड कर दिया था। गौरतलब है कि कोतवाल को निलंबित हुए 72 घंटों से भी ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन अभी तक नए कोतवाल की नियुक्ति नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें,,, बरेली पुलिस लाइन में एक महिला दरोगा की गला रेतकर हत्या

जानिए पूरा मामला-

बुलंदशहर में तीन बच्चों की हत्या के मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए एसएसपी एन कोलांची ने नगर कोतवाली ध्रुव भूषण दूबे और मुंशी अशोक कुमार शर्मा को निलंबित कर दिया था। दरअसल इस मामले में परिजनों द्वारा बच्चों की गुमशुदगी की सूचना दिए जाने के बावजूद कोतवाल और मुंशी ने लापरवाही बरती थी और अगले दिन पुलिस को बच्चों के शव कुंए से बरामद हुए थे।

यह भी पढ़ें,,, सिद्धार्थनगर पुलिस लाइन में इंस्पेक्टर का मिला शव, हत्या की आशंका

एसएसपी एन कोलांचि नगर कोतवाली के रवैये से खासे खफा थे जिसके बाद उन्होने कोतवाल और मुंशी को सस्पेंड कर दिया। वहीं आपको बता दें कि कोतवाल ध्रुव भूषण को हटाए हुए 72 घंटों से भी ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन अभी तक उनकी जगह नए कोतवाल की नियुक्ति नहीं हो पाई है। ऐसे में कई सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्या नगर कोतवाली के लिए नए कोतवाल नहीं मिल पा रहे हैं।

यह भी पढ़ें,,, लखनऊ में बढ़ते अपराध को देखकर एसएसपी ने कई थाना प्रभारियों के किये तबादले

आखिर क्यों अभी तक सिटी कोतवाली में इंस्पेक्टर की तैनाती नहीं हुई है। सवाल ये भी है कि क्या बुलंदशहर में कोतवालों की कमी पड़ गई है। ऐसे कई सवाल हैं जो जवाब मांग रहे हैं। बहरहाल अब देखने वाली बात होगी कि नए कोतवाल का पद कब तक खाली पड़ा रहता है।