Top

AKTU में 12वीं के बाद लें दाखिला, सीधे मिलेगी पीजी की डिग्री

By

Published on 15 May 2016 11:27 AM GMT

AKTU में 12वीं के बाद लें दाखिला, सीधे मिलेगी पीजी की डिग्री
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : डॉ एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी (एकेटीयू) अब 12वीं के बाद सीधे पीजी की डिग्री मिलेगी। यूनिवर्सिटी की संबद्धता समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया। अब अगर छात्र 12वीं के बाद इंटीग्रेटेड एमसीए में दाखिला लेता है तो उसे सीधे पीजी स्तर की डिग्री मिलेगी। इसी तरह एमएएम में सीधे मैनेजमेंट में पीजी की डिग्री दी जाएगी।

12वीं के बाद सीधे मिलेगी पीजी की डिग्री

-पहले इन कोर्स में तीन साल में बीबीए या बीसीए और 5 साल में पीजी की डिग्री मिलती थी।

-चूंकि एआईसीटीई में बीबीए या बीसीए की डिग्री का प्रावधान नहीं है, इसलिए एकेटीयू संस्थाओं को इन कोर्स की संबद्धता नहीं देगा।

-आगामी सत्र के लिए किसी भी कॉलेज को एमएएम, एमसीए डुअल डिग्री कोर्स की संबद्धता नहीं दी जाएगी।

-यूनिवर्सिटी की मानें तो यह फैसला ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) की गाइडलाइंस के अनुसार लिया गया है।

-इस साल भी जिन छात्रों ने उत्तर प्रदेश स्टेट एंट्रेंस एग्जाम (यूपीएसईई) दिया है, उन्हें दाखिला लेने पर पांच साल की पढ़ाई के बाद सीधे पीजी की डिग्री मिलेगी।

-यानी उनके बायोडाटा में ग्रेजुएशन की डिग्री का नाम ही नहीं होगा।

बदली व्यवस्था

-यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता आशीष मिश्रा ने बताया कि अक्सर छात्र 3 साल की पढ़ाई के बाद एग्जिट करने की स्थिति में ग्रेजुएशन लेवल पर बीबीए या बीसीए की डिग्री मांगते थे, जबकि एआईसीटीई में इसका प्रावधान नहीं है।

-वहीं यूपीएसईई के समन्वयक प्रो. कैलाश नारायण ने बताया कि इस बार ब्रोशर में एमसीए डुअल डिग्री की जगह केवल एमसीए कोर्स लिखा गया है।

-काउंसलिंग से जो प्रवेश होंगे, उसमें वही छात्र लिए जाएंगे जो पांच साल का कोर्स करना चाहते हैं।

क्या कहना है एकेटीयू के कुलपति का?

इस पर एकेटीयू के कुलपति विनय कुमार पाठक का कहना है कि 'एआईसीटीई ने एमएएम और एमसीए डुअल डिग्री प्रोग्राम खत्म कर दिया है, इसलिए हमने भी संबद्धता देना बंद करने का फैसला किया है। स्टूडेंट्स को 5 साल का कोर्स करने पर ही डिग्री मिलेगी'।

Next Story