इसलिए पिछड़ रहे बच्चे, कभी नहीं कर पाते साथियों की बराबरी

और ऐसा न होने के कारण ही पिछड़ रहे बच्चे। इसके लिए जरूरी है बच्चों की प्री स्कूलिंग व स्कूलिंग में बेहतर तालमेल। बच्चे का सही ढंग से विकास ताकि स्कूल में आने पर बच्चा न तो पिछड़ने पाए और न ही इस स्थिति में आए कि उसे साथियों से मुकाबला करना कठिन हो जाए।

नई दिल्ली।  पिछड़ रहे बच्चे को ध्यान में ऱखकर तैयार असर 2019 की अर्ली ईयर्स रिपोर्ट के अनुसार बच्चों के विकास में उनके शुरुआती वर्ष बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। इन्हीं वर्षों में उनकी मजबूत नींव उन्हें भविष्य की चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए तैयार किया जा सकता है। इसके लिए जरूरी है बच्चों की प्री स्कूलिंग व स्कूलिंग में बेहतर तालमेल। बच्चे का सही ढंग से विकास ताकि स्कूल में आने पर बच्चा न तो पिछड़ने पाए और न ही इस स्थिति में आए कि उसे साथियों से मुकाबला करना कठिन हो जाए।

शैक्षिक संस्थाओं में 4-8 आयु वर्ग के 90% से अधिक बच्चे किसी न किसी प्रकार से नामांकित हैं। यह अनुपात सभी 4 साल के बच्चों के 91.3% से लेकर सभी 8 साल के बच्चों के 99.5% तक उम्र के साथ बढ़ रहा है। पिछड़ रहे बच्चे को ध्यान में रख उत्तर प्रदेश में लखनऊ और वाराणसी में सर्वेक्षण किए गए। शिक्षा रिपोर्ट की चौदहवीं वार्षिक स्थिति (असर 2019) का आज नई दिल्ली में विमोचन किया गया।

असर 2019 ने पिछड़ रहे बच्चे को फोकस कर यह रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट के अनुसार चार वर्ष तक के बच्चों के लिए कम नामांकन का अनुपात भले ही उम्र के साथ बढ़ता है लेकिन लखनऊ में सभी 4 साल के बच्चों केवल 66.9% और वाराणसी में 73.6% बच्चे किसी शैक्षणिक संस्थान में नामांकित हैं। यह अनुपात दोनों जिलों में सभी 8-वर्षीय बच्चों के 99.4% तक बढ़ जाता है।

नामांकन के मामले में भिन्नता भी है

उदाहरण के लिए 5 साल के 70% बच्चे आंगनवाड़ियों या पूर्व-प्राथमिक कक्षाओं में थे, लेकिन 21.6% पहले से ही कक्षा एक में पंजीकृत थे। 6 वर्ष की आयु में, 32.8% बच्चे आंगनवाड़ियों या पूर्व-प्राथमिक कक्षाओं में थे, जबकि 46.4% कक्षा एक में थे और 18.7% दूसरी कक्षा या उच्चतर में थे।

वाराणसी में, 5 वर्ष की आयु के 67.1% बच्चे आंगनवाड़ियों या पूर्व-प्राथमिक कक्षाओं में थे, लेकिन 16.8% बच्चे पहले ही कक्षा एक में नामांकित हो गए थे इसी तरह 6 वर्ष की आयु में, 40.6% बच्चे आंगनवाड़ियों या पूर्व-प्राथमिक कक्षाओं में थे, जबकि 34.5% कक्षा एक और 22.3% बच्चे दूसरे दर्जे या उच्च कक्षाओं में थे।

लखनऊ में, सभी बच्चों की आयु ५, ६४.९% बच्चे आंगनवाड़ियों या पूर्व-प्राथमिक कक्षाओं में हैं, लेकिन १ ९ .२% बच्चे पहले से ही हैं। 6 साल की उम्र में कक्षा एक में नामांकित, 47.5% बच्चे आंगनवाड़ियों या पूर्व-प्राथमिक कक्षाओं में हैं, जबकि 31.6% बच्चे कक्षा एक और 16.1 फीसद दूसरे दर्जे या उच्च कक्षाओं में हैं।

इसलिए पिछड़ रहे बच्चे एक कारण ये भी

लड़कियों के उच्च अनुपात के साथ, इन छोटे बच्चों के बीच भी लड़कों और लड़कियों के नामांकन के पैटर्न अलग-अलग होते हैं। सरकारी संस्थानों में दाखिला और निजी संस्थानों में लड़कों का अधिक अनुपात ये अंतर बढ़ाता है। उदाहरण के लिए, 4- और 5 वर्षीय बच्चों में, सरकारी प्री-स्कूलों या स्कूलों में 56.8% लड़कियां और 50.4% लड़के नामांकित हैं। जबकि 43.2% लड़कियां और 49.6% लड़के निजी प्री-स्कूलों या स्कूलों में दाखिला लेते हैं ।

इसे भी पढ़ें

उपराष्ट्रपति का तिरुचिरापल्ली में शिक्षा के भारतीयकरण पर जोर

असर 2005 से हर साल, स्कूलिंग की स्थिति और बुनियादी पढ़ाई और अंकगणितीय कार्यों को करने की क्षमता पर रिपोर्ट कर रहा है। ग्रामीण भारत में 5-16 आयु वर्ग के बच्चों के लिए। वार्षिक रिपोर्ट तैयार करने के दस साल बाद, 2016 में, एएसईआर स्विच किया और एक वैकल्पिक वर्ष चक्र के आधार पर जहां यह ’बुनियादी अध्ययन’ असर हर दूसरे वर्ष (2016, 2018 और 2020 में अगला) आयोजित किया जाता है और ये वैकल्पिक वर्ष असर बच्चों के स्कूली शिक्षा और सीखने के एक अलग पहलू पर केंद्रित है। 2017 में असर प्राथमिक से हटकर 14-18 आयु वर्ग में युवाओं की क्षमताओं, अनुभवों और आकांक्षाओं पर केंद्रित रही है।

पिछड़ रहे बच्चे पर दिया ध्यान

2019 में, असर ने बच्चों के शुरुआती वर्षों में स्कूल की स्थिति के साथ-साथ 4-8 आयु वर्ग के छोटे बच्चों के महत्वपूर्ण विकासात्मक संकेतकों की श्रेणी पर ध्यान केंद्रित किया है।
बच्चों के शुरुआती वर्षों को वैश्विक रूप से 0-8 वर्ष की उम्र के रूप में परिभाषित किया गया है, इस उम्र को संज्ञानात्मक, सामाजिक और विकास के सबसे महत्वपूर्ण चरण के रूप में जाना जाता है।

इसे भी पढ़ें

बड़ी खुशखबरी: यहां सात हजार शिक्षाकर्मियों की नौकरी होगी ‘परमानेंट’

मानव जीवन चक्र में भावनात्मक विकास के चरण को दुनिया भर में किया गया अनुसंधान दर्शाता है कि इसके व्यापक नतीजे आते है। इन वर्षों के दौरान वातावरण और उपयुक्त बातें मिलकर बच्चों की समझ को एक स्तर तक सुनिश्चित करती है। एक मजबूत नींव जिस पर स्कूल और जीवन दोनों टिके होते हैं। हालांकि, भारत और कई निम्न और मध्य-आय में देशों में, इस बात के कोई सबूत नहीं है कि छोटे बच्चों के पास पूर्व-प्राथमिक सुविधाओं तक पहुँच है या नहीं। वे स्कूल और उसके बाद की सफलता के लिए मूलभूत कौशल और क्षमताओं को प्राप्त कर रहे हैं या नहीं।

इसे भी पढ़ें

शिक्षा में सुधार पर योगी सरकार का बड़ा प्लान, अब करेगी ये काम

असर 2019 बच्चों के प्रारंभिक वर्षों के इन अंतरालों को भरने के लिए शुरू किया गया था। भारत के 24 राज्यों में 26 जिलों में आयोजित किया गया। सर्वेक्षण में कुल 1,514 गांवों, 30,425 घरों और 4-8 साल के आयु वर्ग के 36,930 बच्चों को शामिल किया गया। प्री-स्कूल या स्कूल में बच्चों की नामांकन स्थिति एकत्र की गई। बच्चों ने विभिन्न प्रकार की संज्ञानात्मक, प्रारंभिक भाषा और शुरुआती संख्यात्मक कार्य; और बच्चों के सामाजिक और भावनात्मक विकास का आकलन करने की गतिविधियाँ भी शुरू की गईं। बच्चों के साथ उनके घरों में एक के बाद एक कार्य किए गए और उनका विश्लेषण किया गया।