×

मिशन एडमिशन : दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से कर सकते हैं एमबीए

raghvendra

raghvendraBy raghvendra

Published on 16 March 2018 11:06 AM GMT

मिशन एडमिशन : दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से कर सकते हैं एमबीए
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी (डीटीयू), दिल्ली की ओर से दिल्ली स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के एमबीए प्रोग्राम के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। यह आवेदन शैक्षणिक सत्र 2018 के लिए मांगे गए हैं। एमबीए प्रोग्राम की कुल 120 सीट्स पर एडमिशन लिए जाएंगे। एमबीए प्रोग्राम में एडमिशन के इच्छुक आवेदक 20 मार्च 2018 तक आवेदन फॉर्म भरकर जमा करवा सकते हैं। इसके बाद से कोई भी आवेदन स्वीकार नहीं किया जाएगा।

अनिवार्य योग्यता

एमबीए प्रोग्राम में दाखिले के लिए आवेदकों के पास न्यूनतम 60 प्रतिशत माक्र्स या समकक्ष सीजीपीए के साथ ग्रेजुएशन डिग्री होनी जरूरी है। हालांकि एससी/एसटी/ पीडब्ल्यूडी कैटेगिरी के आवेदकों के पास न्यूनतम 50 प्रतिशत माक्र्स के साथ ग्रेजुएशन डिग्री होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें... मिशन एडमिशन : आईआईएफटी दिल्ली से कर सकते हैं पीएचडी

स्नातक के अंतिम वर्ष की परीक्षाओं में बैठने जा रहे या बैठ चुके आवेदक जो परीक्षा परिणाम का इंतजार कर रहे हों, वे भी इस प्रोग्राम के लिए आवेदन कर सकते हैं। हालांकि उन्हें यूनिवॢसटी द्वारा निर्धारित की गई तारीख पर अपनी योग्यता का प्रमाण दिखाना होगा। ऐसा नहीं करने पर इन आवेदकों को दाखिले से वंचित किया जा सकता है।

चयन प्रक्रिया

दाखिले के लिए सबसे पहले योग्य आवेदकों को कैट 2017 में परफॉर्मेंस के आधार पर शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। इन शॉर्टलिस्टेड आवेदकों को पर्सनल इंटरव्यू और ग्रुप डिस्कशन में हिस्सा लेना होगा। कैट स्कोर, ग्रुप डिस्कशन और पर्सनल इंटरव्यू में परफॉर्मेंस के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार की जाएगी।

इसी मेरिट लिस्ट के आधार पर एमबीए प्रोग्राम में योग्य आवेदकों को एडमिशन दिया जाएगा। अधिक जानकारी के लिए डीटीयू की वेबसाइट देख सकते हैं- dtu.ac.in

raghvendra

raghvendra

राघवेंद्र प्रसाद मिश्र जो पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के बाद एक छोटे से संस्थान से अपने कॅरियर की शुरुआत की और बाद में रायपुर से प्रकाशित दैनिक हरिभूमि व भाष्कर जैसे अखबारों में काम करने का मौका मिला। राघवेंद्र को रिपोर्टिंग व एडिटिंग का 10 साल का अनुभव है। इस दौरान इनकी कई स्टोरी व लेख छोटे बड़े अखबार व पोर्टलों में छपी, जिसकी काफी चर्चा भी हुई।

Next Story