×

Board Exams 2023 Study Tips: स्ट्रेस फ्री होकर करें बोर्ड की तैयारी, ये टिप्स करेंगे हेल्प

Board Exams 2023 Study Tips in Hindi: मॉक पेपर्स और उपलब्ध स्टडी मैटेरियल पढ़ना आवश्यक है। साथ ही स्टूडेंट को तनाव मुक्त रहना भी जरूरी है। इस आर्टिकल में हम आपके लिए कुछ टिप्स लाए हैं, जिनकी मदद से आप स्वंय को टेंशन फ्री रख सकते हैं।

Durgesh Sharma
Published on: 13 Jan 2023 2:41 AM GMT
Board Exams 2023 Preparation
X

Board Exams 2023 Preparation (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Board Exams 2023 Study Tips: सीबीएसई, यूपी बोर्ड समेत अन्य बोर्ड परीक्षाओं की डेटशीट लगभग जारी हो चुकी हैं। विभिन्न बोर्ड की परीक्षाएं नजदीक हैं, ऐसे में छात्रों को एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों, टेक्स्ट बुक, प्रैक्टिस शीट्स, मॉक पेपर्स और उपलब्ध स्टडी मैटेरियल पढ़ना भी जरूरी है। साथ ही स्टूडेंट को तनाव मुक्त रहना भी जरूरी है। इस आर्टिकल में हम आपके लिए कुछ टिप्स लाए हैं, जिनकी मदद से आप स्वंय को टेंशन फ्री रख सकते हैं।

बनाएं बेहतर स्टडी प्लान

एक छात्र को सबसे पहली और महत्वपूर्ण चीज यह करनी चाहिए कि उसे कैसे और क्या पढ़ना है, इसकी योजना बनानी चाहिए। एक स्टडी प्लान न केवल प्रभावी तैयारी सुनिश्चित करती है बल्कि छात्रों को उनके लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रेरित भी करती है। स्टडी प्लान बनाने से पहले, छात्रों को उन विषयों पर ध्यान देना चाहिए जो सब्जेक्ट उन्हें सबसे कठिन लगते हैं। यह काम तभी करना चाहिए जब आपका माइंड सबसे अधिक एक्टिव हो। यह नियम आपको बेहतर बनाए रखने में मदद करेगा। इसके अलावा आपको अपना बेहतर लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए।

डाउट को करें क्लियर

एक महीने से अधिक समय के साथ, उच्च वेटेज और महत्वपूर्ण विषयों वाले चैप्टर पर ध्यान देना चाहिए। इन अध्यायों से अच्छी तरह वाकिफ होने से छात्रों को बोर्ड में अधिक स्कोर प्राप्त करने में मदद मिलेगी। यदि कोई डाउट है, तो उन्हें अपने शिक्षकों के पास पहुंचाना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके सभी डाउट पहले ही स्पष्ट हो गए हैं। तैयारी करते समय चैप्टर को हार्ड, मिडियम और ईजी के रूप में बाट लें और अपना समय विभाजित कर लें। उन चैप्टर को अधिक समय दिया जाना चाहिए जो कठिन हैं और जहां अधिक प्रैक्टिस की आवश्यकता है।

टेक्स्ट बुक का करें विश्लेषण

एनसीईआरटी पाठ्यपुस्तकों का डिटेल स्टडी करना जरूरी है क्योंकि किताब की प्रत्येक पंक्ति में महत्वपूर्ण जानकारी होती है। इसके अलावा, छात्रों को इन-टेक्स्ट और प्रैक्टिस क्वेश्चन पर विशेष ध्यान देना चाहिए। प्रश्नों के बार-बार अभ्यास से छात्रों को अपनी कमजोरियां का पता चलता है।

प्रैक्टिस से बनेगी बात

एक छात्र की समझ और अध्याय के ज्ञान के साथ-साथ उसकी गति और एक्यूरेसी जिसके साथ वह किसी प्रश्न का उत्तर देता है या उसे हल करता है, से फर्क पड़ता है। स्पीड और एक्यूरेसी में सुधार करने का सबसे अच्छा तरीका हर बार एक टाइमर सेट करना है, जब कोई छात्र किसी प्रश्न का अभ्यास करता है या मॉक टेस्ट देता है। छात्रों को अपनी लेखन गति और सटीकता में सुधार के लिए समयबद्ध तरीके से अधिक से अधिक मॉक टेस्ट हल करने चाहिए।

टाइम मैनेजमेंट करें बेहतर

बेहतर टाइम मैनेजमेंट छात्रों को कम समय में अधिक अंक हासिल करने में मदद करता है। इससे समय का सदुपयोग होता है। बेहतर टाइम मैनेजमेंट विकसित करने के लिए छात्रों को स्टडी प्लान का कड़ाई से पालन करना चाहिए और जो भी निर्धारित लक्ष्य है उसको को प्राप्त करना चाहिए। इसके साथ ही ज्यादा से ज्यादा मॉक टेस्ट सॉल्व करें। इससे उन्हें यह स्ट्रैटजी बनाने में मदद मिलेगी कि किसी विशेष प्रश्न या सेक्शन पर कितना समय देना चाहिए।

सिलेबस और प्रैक्टिस पेपर को कई बार रिवाइज करें

छात्रों को एनसीईआरटी एक्जम्पल, प्रश्नों का अभ्यास करने के अलावा, उन्हें अपने स्टडी नोट्स को कई बार पढ़ना चाहिए। पहले से सॉल्व किए गए मॉक टेस्ट को हल करने, गलतियों का विश्लेषण करने, उनसे सीखने और कमजोर क्षेत्रों में सुधार करने पर भी ध्यान देना चाहिए। मार्किंग स्कीम को ध्यान में रखते हुए उत्तर लिखने पर अधिक ध्यान दें।

Durgesh Sharma

Durgesh Sharma

Next Story