UPP परीक्षा के रिजल्ट में व्यापक धांधली का आरोप, अभ्यर्थी कर रहे सही परिणाम की मांग

लखनऊ: उत्तर प्रदेश पुलिस परीक्षा 2018 के बुधवार को आए परिणाम में व्यापक पैमाने पर धांधली का आरोप लगा है। सोशल मीडिया पर बने ग्रुप रोजगार मांगे इंडिया अभियान के बैनर तले एकजुट हुए अभ्यर्थी इस भर्ती का सड़क पर उतरकर और न्यायालय दोनों में पुरजोर विरोध करेंगे।

ये भी पढ़ें—बुलंदशहर हिंसा : सेना के जवान ने मारी थी शहीद इंस्पेक्टर को गोली

अभ्यर्थियों का आरोप है कि 173 नंबर पाने वाले को पास कर दिया जबकि 220 नंबर पाने वाले को फेल कर दिया गया है। इसके साथ ही सभी अभ्यर्थियों के परिणाम भी जारी नहीं किए गए हैं। बिना किसी फाइनल रिजल्ट के सिर्फ आंसर की के आधार पर ही भर्ती प्रक्रिया शुरू हो गई है।

ये भी पढ़ें— एक बार फिर आमने-सामने होंगे शाहरुख-अमिताभ,जानिए कैसे लेंगे ‘बदला’

रिजल्ट आने के बाद व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार दिख रहा है

अभ्यर्थियों ने कहा कि यूपी पुलिस परीक्षा के परिणाम में व्यापक धांधली हुई थी पहली पाली के पेपर दूसरी पाली में दूसरी के पेपर पहली पाली में बांटे गए थे। जिसके खिलाफ छात्रों ने आंदोलन किया था। जिसके बाद दूसरी पाली की परीक्षा कैंसिल हो कर पुन: कराई गई थी। अब रिजल्ट आने के बाद व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार दिख रहा है।

ये भी पढ़ें— यूपी: शिक्षक भर्ती मामले में सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, जांच शुरू

जांच कराकर सही परिणाम नहीं दिया गया तो छात्र सड़कों पर आंदोलन के लिए बाध्य होंगे

रोजगार मांगे इंडिया से जुड़े सुनील मौर्य ने कहा कि उक्त परीक्षा परिणाम में पूर्ण रूप से धांधली दिखाई दे रही है। इसके पहले 68500 अध्यापकों के भी परिणाम में इसी तरह के मामले सामने आए थे जिसकी सीबीआई जांच शुरू हो गई है। इस तरह से यदि यूपी पुलिस परीक्षा की भी तत्काल जांच कराकर सही परिणाम नहीं दिया गया तो छात्र सड़कों पर आंदोलन के लिए बाध्य होंगे और जरूरत पड़ी तो न्याय के लिए न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाएंगे। इसके लिए सोशल मीडिया पर भी अभ्यर्थियों की कड़ी प्रतिक्रियायें सामने आ रही है।

ये भी पढ़ें— टी.ई.टी. परीक्षा 2018: सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी अथारिटी 12 दिसम्बर को तलब

भर्ती के लिए इतना जल्दबाजी क्यों?

अभ्यर्थियों का कहना है कि सरकार भर्ती के लिए इतना जल्दबाजी क्यों कर रही है। क्या इस भर्ती को भी पूरा नहीं कराना चाहती है। इतने कम बच्चों को पास करने का क्या मतलब है। ऐसे कई सवाल हैं जो छात्रों के मन में कौंध रहे हैं। सुनील मौर्य ने बताया कि अब इसके लिए प्रयागराज के आजाद पार्क में आठ दिसम्बर को प्रदर्शन किया जाएगा। जिसमें सभी जिलों से अभ्यर्थी शामिल होंगे। इसके बाद आगे की रणनीति भी तय की जायेगी।