GST के इन कोर्स को करके बना सकते हैं करियर

साथ ही जीएसटी के नियमों में भी कई बार बदलाव किए गए हैं। ऐसे में आम बिजनेसमैन के लिए इसको समझना आसान नहीं है। तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं। इससे संबंधित कोर्स के बारे में जिसे करके छात्र अपना करियर बना सकते हैं।

लखनऊ: देश में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) लागू हुए साल भर से अधिक हो गया है। टैक्स प्रणाली में हुए इतने बड़े बदलाव की वजह से आज भी कई व्यापारियों और जनता के लिए जीएसटी को समझना मुश्किल है। साथ ही जीएसटी के नियमों में भी कई बार बदलाव किए गए हैं। ऐसे में आम बिजनेसमैन के लिए इसको समझना आसान नहीं है। तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं। इससे संबंधित कोर्स के बारे में जिसे करके छात्र अपना करियर बना सकते हैं।

आईसीएआई के कोर्स:

भारतीय लागत लेखाकार संस्थान (ICAI) ने एक जीएसटी कोर्स की शुरुआत की है, जिसके माध्यम से जीएसटी की पढ़ाई की जा सकती है। संस्थान ने प्रोफेशनल्स के लिए यह कोर्स शुरू किया है। यह जीएसटी के बारे में सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम है।

डॉ.भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी:

पिछले साल डॉ.भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी, आगरा गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) में सर्टिफिकेट कोर्स शुरू किया था। यह सर्टिफिकेट कोर्स छह महीने का है। खास बात ये है कि पिछले साल इस कोर्स के लिए कई विद्यार्थियों ने आवेदन किया था। कॉमर्स के सीनियर प्रोफेसर्स, जीएसटी अधिकारी और चार्टर्ड अकाउंटेंट्स जीएसटी के विभिन्न टॉपिक्स को पढ़ाएंगे।

लखनऊ यूनिवर्सिटी:

लखनऊ यूनिवर्सिटी ने भी जीएसटी पर सर्टिफिकेट कोर्स शुरू किया था, जिसके लिए कई लोग आवेदन कर चुके हैं। आवेदकों की अधिक संख्या के कारण यूनिवर्सिटी ने इस कोर्स की सीटें में भी बढ़ोत्तरी करने का फैसला किया। इससे पहले इस कोर्स में 60 सीटें थीं लेकिन बढ़ती भीड़ को देखते हुए विश्वविद्यालय ने सीटों की संख्या 120 कर दी है।

दिल्ली विश्वविद्यालय:

दिल्ली विश्वविद्यालय भी जीएसटी को लेकर एक कोर्स शुरू करने पर विचार कर रहा है।