Top

CBSE 12th Result 2021: सरकार ने 10 वीं-12 वीं के छात्रों के लिए निकाला फॉर्मूला, ऐसे दिये जाएंगे नंबर

CBSE 12th Result 2021: CBSC 12वीं के परिणाम(Result) तैयार करने के सिलसिले कमेटी गठित की गई। ऐसे में आज ये कमेटी सुप्रीम कोर्ट(Supreme Court) में अपनी रिपोर्ट पेश कर रही है।

Network

NetworkNewstrack NetworkVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 17 Jun 2021 7:07 AM GMT

Supreme Court
X

सुप्रीम कोर्ट की फाइल तस्वीर (फोटो साभार-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

CBSE 12th Result 2021: सीबीएसई (Central Board of Secondary Education) की तरफ से 12वीं के परिणाम(Result) तैयार करने के सिलसिले कमेटी गठित की गई। ऐसे में आज ये कमेटी सुप्रीम कोर्ट(Supreme Court) में अपनी रिपोर्ट पेश कर रही है। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई को मूल्यांकन नीति तय करने के लिए 14 दिनों का समय दिया था।

दरअसल महामारी कोरोना संक्रमण के मामलों की वजह से सीबीएसई और आईसीएसई की 12वीं बोर्ड परीक्षा 2021 को रद्द कर दिया गया था। वहीं अब रिजल्ट जारी करने को लेकर सीबीएसई की तरफ से तैयारियां की जा रही हैं।

सीबीएसई 12 वीं रिजल्ट घोषित

इन तैयारियों को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सीबीएसई 12 वीं रिजल्ट घोषित करने को लेकर सुनवाई की जा रही है। जिसके चलते सीबीएसई ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है। वहीं सुप्रीम कोर्ट में AG ने बहस की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि इससे पहले इस तरह की परिस्थिति कभी नही आई। कोर्ट ने कहा कि पॉलिसी की एक कॉपी विकास सिंह को भी दे दें।

आगे AG ने कहा CBSE ने 10, 11 और 12 प्री बोर्ड के रिजल्ट को लिया है। 10 वी के 5 विषय में से 3 विषय के सबसे अच्छे मार्क को लिया जाएगा। 10वीं कक्षा के लिए 5 विषय लिए गए हैं और तीन में से सर्वश्रेष्ठ का औसत निकाला गया है। कक्षा 12वीं के छात्रों के लिए प्रैक्टिकल होते हैं। हम 10वीं से 30 फीसदी, 11वीं से 30 फीसदी और 12वीं से 40 फीसदी लेंगे। इस तरह उनके अंक निकलेंगे।

बता दें, सीबीएसई ने 4 जून 2021 को ईवैल्यूएशन क्राइटेरिया तय करने के लिए 13 सदस्यीय कमेटी का गठन किया था। वहीं 12वीं मूल्यांकन नीति तय करने के लिए समिति को दस दिन का समय दिया गया था। जबकि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और सीबीएसई को ईवैल्यूएशन क्राइटेरिया तय करने के लिए दो हफ्ते का समय दिया था।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story