×

सीसीएसयू में M.Ed में 25 जून तक करें आवेदन, साथ ही बढ़ाई 14 कॉलेजेस में बीएड की सीटें

By

Published on 31 May 2017 4:36 AM GMT

सीसीएसयू में M.Ed में 25 जून तक करें आवेदन, साथ ही बढ़ाई 14 कॉलेजेस में बीएड की सीटें
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मेरठ: सहारनपुर मंडल में चौधरी चरण सिंह से संबद्व सेल्फ फाइनेंस एमएड कॉलेजों में सत्र 15-17 में प्रवेश के लिए छात्र 25 जून तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। विवि ने जांच के बाद ही कॉलेजों के लिए आवेदन तिथि बढ़ाने का फैसला लिया है।

ऐसे करें आवेदन

-समन्वयक डॉ. जेएस भारद्वाज ने बताया कि ​कुछ छात्रों ने कॉलेजों के स्थान पर ​विवि के लिए आवेदन किया था।

-लेकिन अब वह दोबारा कॉलेजों में आवेदन कर सकते है। 2015 में बीएड उत्तीण छात्र ही उक्त सत्र के लिए अर्ह होंगे।

-उन्होंने बताया कि छात्र 25 जून तक ऑनलाइन आवेदन करते हुए फीस जमा करा सकते हैं।

-छात्रों को विवि के पते पर 30 जून तक आवेदन का प्रिंट आउट सभी प्रमाण पत्रों के साथ समन्वयक शिक्षा विभाग के पते पर स्पीड पोस्ट करना होगा।

-9 जुलाई को टेस्ट 40 एमएड कॉलेजों में करीब 15 सीटों के लिए किया जाएगा।

-विवि ने एमएड सत्र 17—19 और कॉलेजों के लिए सत्र 15—17 में ऑनलाइन मांगे थे।

-जिन छात्रों ने कॉलेजों के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था, लेकिन फीस जमा नहीं की थी। वह नया फार्म प्राप्त कर फीस जमा कर सकते हैं।

आगे की स्लाइड में जानिए मेरठ के 14 कॉलेजों में बढ़ी सीटों के बारे में

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय ने मेरठ और सहारनपुर मंडल में बीएड के 14 नए कॉलेजों में 1400 सीटें बढ़ेंगी। नए कॉलेजों को जून में ही प्रस्तावित बीएड काउंसलिंग में मौका मिलेगा। अब विश्वविद्यालय में बीएड की सीटें 46 हजार से अधिक हो जाएगी। हालांकि दो कॉलेजों के प्रस्ताव नहीं पास हुए हैं।

विवि ने लिया ये फैसला

-विश्वविद्यालय ने एक बैठक के दौरान फैसला लिया है कि 14 नए कॉलेजों में 1400 सीटें बढ़ें।

-बता दें कि बैठक में 16 कॉलेजों के प्रस्ताव रखे गए थे। लेकिन दो कॉलेजों को मान्यता नही मिली है।

-जिसमें स्यादवाद इंस्टीट्यूट आॅफ हायर एजुकेशन एंड रिसर्च एंड बागपत और एलटीआर शिक्षण संस्थान कुराली है।

-इनके अलावा 14 कॉलेजों के प्रस्ताव पास हो गए है। जिसके बाद अब बीएड के 434 कॉलेज हो जाएंगे।

-बताया जा रहा है कि अब कॉलेजों में सीट भरने के लिए कड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ सकता है।

Next Story