×

UAFU दीक्षांत समारोह: वीसी बोले- डिग्री की फोटोकॉपी भी लैमिनेट होती तो अच्छा होता

ख्वाजा मौइनुद्दीन चिस्ती अरबी फारसी यूनिवर्सिटी में सोमवार (27 मार्च) को पहला दीक्षांत समारोह शुरू हुआ। मंच पर गवर्नर रामनाईक, भारत सरकार के पूर्व आर्थिक सलाहकार डॉ अशोक लहरी और वाईस चांसलर प्रोफेसर खान मसूद अहमद मौजूद रहे। इसमें 245 छात्रों को डिग्री दी गई। इसमें खास बात ये है कि डिग्री तीन भाषाओं में हिंदी, अंग्रेजी और उर्दू में प्रिंट रहेगी।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 27 March 2017 9:18 AM GMT

UAFU दीक्षांत समारोह: वीसी बोले- डिग्री की फोटोकॉपी भी लैमिनेट होती तो अच्छा होता
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

ख्वाजा मौइनुद्दीन चिस्ती अरबी फारसी यूनिवर्सिटी का पहला दीक्षांत समारोह

लखनऊ : ख्वाजा मौइनुद्दीन चिस्ती अरबी फारसी यूनिवर्सिटी (UAFU) में सोमवार (27 मार्च) को पहला दीक्षांत समारोह शुरू हुआ। मंच पर गवर्नर रामनाईक, भारत सरकार के पूर्व आर्थिक सलाहकार डॉ अशोक लहरी और वाईस चांसलर प्रोफेसर खान मसूद अहमद मौजूद रहे। इसमें 245 छात्रों को डिग्री दी गई। इसमें खास बात यह है कि डिग्री तीन भाषाओं में हिंदी, अंग्रेजी और उर्दू में प्रिंट रहेगा।

क्या कहा वाईस चांसलर ने?

-वाईस चांसलर (वीसी) प्रोफेसर खान मसूद ने मंच पर बोले कि यूनिवर्सिटी को रन करने में किसी प्राइवेट यूनिवर्सिटी से भी ज्यादा मेहनत करनी पड़ी।

-वीसी ने कहा, 'मैंने अपना बेस्ट किया, अब जो कमी रह गई होगी उसे बेहतर करने का प्रयास करेंगे।'

-उन्होंने कहा कि बहुत मुश्किल काम है यहां का वीसी बनना।

इन छात्रों को मिला मेडल

-इकरार हुसैन बीए अरेबिक में ख्वाजा मौइनुद्दीन चिस्ती गोल्ड मैडल अंडर ग्रेजुएट (यूजी) इन उर्दू, अरबी, फारसी विषयों में दिया गया।

-निदा खान को बीसीए (यूजी) में फर्स्ट हाईएस्ट चांसलर मैडल हासिल किया।

-मुहम्मद हारुन को बीए अरबिक (यूजी) में सेकंड हाईएस्ट वीसी मेडल मिला।

-सफीना जेहरा को एमए उर्दू (फैकल्टी ऑफ आर्ट्स एंड हयूमैनिटिज, पीजी) में गोल्ड मैडल प्राप्त हुआ।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पूरी खबर...

लड़कियों की पढ़ने की संख्या में वृद्धि

-गवर्नर ने छात्रों को आग्रह करते हुए कहा कि ये आपके जीवन का महत्वपूर्ण पड़ाव है, इसलिए जीवन में बहुत कुछ करना होगा।

-इसमें 173 लड़के है यानी 71 % और 72 लड़कियां यानी 29% हैं। जब अभी गोल्ड दिया तो 5 लड़कों और 5 लड़कियों को मिला।

-यूपी में लड़कियों की पढ़ने की संख्या बढ़ी हैं।

महिलाओं का सशक्तिकरण हो रहा हैं। इसलिए सभी छात्राओं का अभिनंदन करता हूं।

-यूपी में सरकार की 29 यूनिवर्सिटी हैं और इनमें से 4 यूनिवर्सिटी नई हैं।

-जिसमें 25 विश्वविद्यालयों में दीक्षांत कराना होता है।

-अपने यूपी में यूनिवर्सिटी शिक्षा पटरी पर आई है।

देश की पूंजी है युवा

-आतंकवादियों पर गवर्नर बोले कि आतंकवादी भी युवा होते हैं, जो गलत रास्ते पर चले जाते हैं। ये भी समाज को देखना चाहिए।

-युवा देश की पूंजी होते हैं। अपने लक्ष्य की ओर युवाओं को भी प्रतिबद्ध रहना चाहिए।

-वीसी ने कहा कि स्टूडेंट्स को ओरिजिनल डिग्री की जगह फोटोकॉपी दी जा रही हैं।

-अगर फोटोकॉपी लैमिनेट करवा भी देते तो थोड़ा अच्छा लगता। इससे स्टूडेंट्स का मनोबल बढ़ता है।

अधिक जानकारी के लिए आगे की स्लाइड्स में जाएंं...

क्या कहना भारत सरकार के पूर्व अर्थिक सलाहकार का?

भारत सरकार के पूर्व अर्थिक सलाहकार अशोक लाहरी ने कहा कि स्टूडेंट्स को हमेशा याद रखना चाहिए कि 'हिम्मते मर्दा, मद्दे खुदा।' हम तभी हारते हैं, जब हम खुद प्रयास करना और हौंसला रखना छोड़ देते हैं। इंदिरा गांधी की डिफीट और 2014 में बीजेपी की जीत बहुत कुछ सिखाती हैं।

रामनाईक ने जाहिर की खुशी

-गवर्नर रामनाईक ने कहा, 'बहुत खुशी है कि आपके विश्वविद्यालय का यह पहला दीक्षांत समारोह है।

-जिन छात्रों का दीक्षांत सोमवार को नहीं हुआ, ये मेरा वादा है कि उनका हम अलग से करेंगे।'

-सपलेमेंट्री कॉन्वोकेशन करेंगे और कोशिश रहेगी की आगे से ऐसा ना हो।

गवर्नर ने कहा धन्यवाद

रामनाईक ने डॉ लहरी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि 'लहरी जी ने बहुत अच्छे तरीके से बात कही है। इस देश को आगे ले जाने में हमें योगदान देना होगा। हम चाहते हैं कि इनका भाषण हिंदी में भी सब स्टूडेंट्स को डिग्री के साथ देना चाहिए। एक हफ्ते में दे दिया जाए तो बहुत अच्छा होगा। ये सबके लिए उपयोगी होगा।'

आगे की स्लाइड्स में देखें दीक्षांत समारोह से संबंधित फोटोज...

इकरार हुसैन

मुहम्मद हारुन

हितेश सिंह

निदा खान

अहमद नकीब गुफाम

सोनू साहू

गवर्नर राम नाईक बोलते हुए

डॉ अशोक लहरी

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story