Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

DU देगा रिसर्च को बढ़ावा, छात्रों और शिक्षकों को भी मिलेगा पूरा मौका

दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) छात्रों और शिक्षकों को रिसर्च में आगे बढ़ने का मौका दगा। डीयू का मुख्य उद्देश्य है रिसर्च के क्षेत्र में सबको अवसर मिले। साथ ही फैकल्टी और छात्रों को विश्व स्तरीय शोध करने के लिए सहयोग और प्रोत्साहन देना है। इस तरह से ग्रेजुएशन लेवल पर स्टूडेंट्स अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों और कार्यशालाओं में हिस्सा ले सकेंगे।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 25 Nov 2016 8:22 AM GMT

DU देगा रिसर्च को बढ़ावा, छात्रों और शिक्षकों को भी मिलेगा पूरा मौका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) छात्रों और शिक्षकों को रिसर्च में आगे बढ़ने का मौका दगा। डीयू का मुख्य उद्देश्य है रिसर्च के क्षेत्र में सबको अवसर मिले। साथ ही फैकल्टी और छात्रों को विश्व स्तरीय शोध करने के लिए सहयोग और प्रोत्साहन देना है।

इस तरह से ग्रेजुएशन लेवल पर स्टूडेंट्स अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों और कार्यशालाओं में हिस्सा ले सकेंगे।

ये भी पढ़ें... DU में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने के मौके, 30 नवंबर तक जल्द करें अप्लाई

डीयू देगा पूरा सहयोग

-डीयू अपने स्तर पर स्टॉर्ट-अप शुरू करने वालों को सहयोग देगा।

-बुनियादी ढांचे के निर्माण में मदद करेगा।

-डीयू ने कदम उठाया है कि ग्रेजुएशन लेवल के छात्रों को भी शोध करने का मौका मिले।

-इसके लिए उन्हें कुलपति छात्र फंड से अनुदान भी मिलेगा।

ये भी पढ़ें... DU ने बढ़ाई परीक्षा की तिथि, अब 31 दिसंबर तक जमा होंगे फॉर्म

डीयू ने मांगे सुझाव

-दरअसल, डीयू ने हर स्तर पर शोध को बढ़ावा देने के लिए एक ड्राफ्ट प्लान तैयार किया है।

-अब इस ड्राफ्ट पर डीयू ने विभागों और कॉलेज शिक्षकों से 6 दिसंबर तक सुझाव मांगे हैं।

-लिहाजा ड्राफ्ट में स्नातक छात्रों को भी शोध का अवसर देने की बात कही गई है।

-ड्राफ्ट में कॉलेज स्तर की फैकल्टी को दिए जाने वाले अनुदान में भी बढ़ोत्तरी करने की बात है।

ये भी पढ़ें... DU का कैंपस ऑफ ओपन लर्निंग शुरू करेगा शॉर्ट टर्म डिजिटल कोर्स

शोधकर्ता को बाहर से मिलेगा फंड

-इसके साथ ही यूनिवर्सिटी लेवल के शिक्षकों के रिसर्च पेपर के प्रकाशन के लिए अधिकतम 2000 अमेरिकन डॉलर देने की बात को भी ड्राफ्ट में शामिल किया गया है।

-शोध कार्य बड़े स्तर का होगा और उसके लिए रिसर्चर को बाहर से फंड मिलेगा।

-शोधकर्ता को रिसर्च के साथ इंसेंटिव भी मिलेगा।

-रिसर्च स्कॉलर को रिसर्च एक्सीलेंस पुरस्कार देने की भी योजना है।

-यह पुरस्कार कॉलेज और विभागीय स्तर पर दिया जाएगा। इसके लिए आयु सीमा 45 साल से कम रहेगी।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story