Top

DU का कैंपस ऑफ ओपन लर्निंग शुरू करेगा शॉर्ट टर्म डिजिटल कोर्स

दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (SOL) नए कोर्सेज पर काम करने जा रहा है। वे फ्लिप क्लासरूम और शॉर्ट स्किल कोर्सेज की शुरूआत करेगा। बता दें कि फ्लिप क्लासरूम एक ऐसा एजुकेशन मॉडल होता है, जिसके जरिए पहले ही सब्जेक्ट्स को घर पर समझ लेते हैं। फिर बाद क्लासेस में उन पर प्रयोग आदि करते है। डीयू के एसओएल में लगभग 4.5 लाख दाखिले पूरे हो गए है।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 19 Nov 2016 8:16 AM GMT

DU का कैंपस ऑफ ओपन लर्निंग शुरू करेगा शॉर्ट टर्म डिजिटल कोर्स
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) कैंपस ऑफ ओपन लर्निंग (COL) नए कोर्सेज पर काम करने जा रहा है। वे फ्लिप क्लासरूम और शॉर्ट स्किल कोर्सेज की शुरूआत करेगा। बता दें कि फ्लिप क्लासरूम एक ऐसा एजुकेशन मॉडल होता है, जिसके जरिए पहले ही सब्जेक्ट्स को घर पर समझ लेते हैं। फिर बाद क्लासेस में उन पर प्रयोग आदि करते है। डीयू के सीओएल में लगभग 4.5 लाख दाखिले पूरे हो गए है।

छात्रों के नौकरी पानें में मिलेगी मदद

मैसैचुसेट इस्टीट्यूट ऑफ टेक्निकल (एमआईटी) की तर्ज पर ओपन लर्निंग कैंपस में चलने वाले छोटे और प्राइवेट ऑनलाइन कोर्सेज कराएगा। पहले से ही कैंपस में 23 रेग्युलर प्रोग्राम्स चल रहे है। ये शॉर्ट टर्म डिजिटल प्रोग्राम छात्र को उनके प्रतिभा के आधार पर नौकरी पाने में मदद करेगी।

क्या कहना है डॉयरेक्टर प्रोफेसर का?

-डीयू के कैंपस ऑफ ओपन लर्निंग के डॉयरेक्टर प्रोफेसर चंद्र शेखर दुबे का कहना है कि एक निश्चित समय अवधि के बाद एक बैज मिलेगा। -इससे स्टूडेंट्स अपनी ऑनलाइन पोर्टफोलियों या सोशल मीडिया प्रोफाइल में जोड़ सकते है।

-इससे उन्हें रिक्रूट करने वाली कंपनियां उनकी उनके टैलेंट का पता लगा लेंगी।

-उनका कहना है कि सिस्टम के अंतर्गत छात्रों को क्लास से पहले ही सूचना मिल जाएगी।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story