×

Delhi University में बाहरी छात्र भी कर सकेंगे जर्नलिज्म में मास्टर्स

दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) में बाहरी स्टूडेंट्स भी जर्नलिजम से मास्टर्स करने का अवसर मिलेगा। डीयू के कुलपति प्रो. योगेश त्यागी के ड्रीम प्रोजेक्ट दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में बाहरी स्टूडेंट्स भी जर्नलिज्म में पीजी (एम.ए) कर सकेंगे।

priyankajoshi
Published on 20 Aug 2017 6:21 AM GMT
Delhi University में बाहरी छात्र भी कर सकेंगे जर्नलिज्म में मास्टर्स
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली : दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) में बाहरी स्टूडेंट्स को भी जर्नलिजम से मास्टर्स करने का अवसर मिलेगा। डीयू के कुलपति प्रो. योगेश त्यागी के ड्रीम प्रोजेक्ट दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में बाहरी स्टूडेंट्स भी जर्नलिज्म में पीजी (एम.ए) कर सकेंगे।

डॉ. मनस्विनी ने बताया कि 23 अगस्त से ऑनलाइन एप्लिकेशन प्रॉसेस शुरु होगी और अप्लाई 8 सितंबर तक किया जा सकेगा। कोर्स में एडमिशन एंट्रेंस एग्जाम के आधार पर होगा। एंट्रेंस एग्जाम 17 सितंबर को होगा। रिजल्ट 22 सितंबर को जारी किया जाएगा। इसकी क्लासेस 26 सितंबर से डीयू के कलस्टर इनोवेशन सेंटर में शुरू होंगी।

अभी तय नहीं

पांच वर्षीय इंटरग्रेटिड कोर्स में तीन साल बाद बाहरी यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म में अंंडर ग्रेजुएट (यूजी) कर चुके स्टूडेंट्स को भी एडमिशन का मौका मिलेगा। हालांकि, कितने स्टूडेंट्स को मौका मिलेगा इसके लिए अभी सीटें तय होना बाकी हैं। गौरतलब है कि डीयू में अब तक जर्नलिज्म के लिए कोई विभाग नहीं है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पूरी खबर...

बाहरी स्टूडेंट्स को मौका

वर्तमान में जो छात्र 5 वर्षीय कोर्स के अंतर्गत एडमिशन लेकर अपना कोर्स पूरा करेगा तो उसे पांच वर्षीय कोर्स की ही डिग्री मिलेगी। जबकि यदि कोई तीन साल की पढ़ाई पूरा कर कोर्स छोड़ना चाहेगा उसे यूजी की डिग्री मिलेगी। तीन साल बाद जितने लोग कोर्स को छोड़ेंगे उसके आधार पर ही बाहरी स्टूडेंट्स को एडमिशन का मौका मिलेगा। फैकल्टी ऑफ सोशल साइंस के तहत शुरू हो रहे पांच वर्षीय इंटरग्रेटिड कोर्स में हिंदी और अंग्रेजी माध्यम के लिए 60-60 सीटें तय की गई हैं।

तीन साल बाद कोर्स छोड़ने का प्रावधान

दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म की ओएसडी डॉ. मनस्विनी योगी ने कहा, प्रावधान इस तरह का है कि इस 5 वर्षीय कोर्स में अगर किसी छात्रों ने किसी अन्य यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म में यूजी किया है तो उसे भी चौथे साल में पीजी में एडमिशन का मौका मिल सकेगा। क्योंकि इस कोर्स में तीन साल बाद कोर्स छोड़ने का प्रावधान है। लिहाजा पीजी में कितनी सीटें होगी यह बाद में ही तय होगा। उनके लिए अलग से बाद में प्रक्रिया चलेगी।

ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया 23 अगस्त

डीयू की अकेडमिक काउंसिल और एग्जिक्यूटिव काउंसिल में इस पांच वर्षीय कोर्स को मंजूरी मिलने के बाद अब कोर्स के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू होने जा रही है। सामान्य और ओबीसी कैटेगरी में आवेदन के लिए 500 रुपए और एससी-एसटी व पीडब्ल्यूडी कैंडिडेट्स को 250 रुपए का पेमेंट करना होगा।

हर हफ्ते वर्कशॉप

इस कोर्स में छात्रों को एक्सपोजर देने के लिए हर हफ्ते सेमिनार-वर्कशॉप की भी व्यवस्था की गई है। इन सेमिनार और वर्कशाप के लिए मीडिया से संबंधित लोगों को बुलाया जाएगा।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story