×

बीहड़ से निकली टॉपर: किसान की बेटी भावना ने इंटरमीडिएट में पाया प्रदेश में दूसरा स्थान

aman

amanBy aman

Published on 9 Jun 2017 7:09 PM GMT

बीहड़ से निकली टॉपर: किसान की बेटी भावना ने इंटरमीडिएट में पाया प्रदेश में दूसरा स्थान
X
बीहड़ से निकली टॉपर: किसान की बेटी भावना ने इंटरमीडिएट पाया प्रदेश में दूसरा स्थान
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कानपुर देहात: प्रतिभा छुपती नहीं। ये साबित किया है कानपुर देहात के बीहड़ क्षेत्र राजपुर कस्बा की रहने वाली भावना ने। भावना ने यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट की परीक्षा में प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल किया है।

भावना बचपन से ही अपनी मौसी रचना देवी के यहां रहकर पढ़ाई करती रही है। भावना ने पढ़ाई नरोत्तम सिंह आदर्श विद्या मंदिर इंटर कॉलेज, राजपुर से की है। इनके पिता किसान हैं। भावना मूलतः झिझक ब्लॉक के भवनपुर की रहने वाली है।

आज मेहनत रंग लाई

भावना की इस सफलता पर उनकी मौसी रचना देवी ने बताया कि उनकी खुद की कोई संतान नहीं है। इसलिए भावना को वो अपने पास रखकर पढ़ाती हैं। उन्हें भावना की इस कामयाबी से काफी ख़ुशी मिली है। रचना देवी ने कहा, 'भावना पर उन्होंने जो कड़ी मेहनत की है आज उसका फल आया है। उनकी मेहनत आज रंग लाई है।'

शिक्षक बनना चाहती है भावना

भावना के प्रदेश में दूसरा स्थान पाने से जहां जिले में ख़ुशी का माहौल है, वहीं दिनभर भावना को बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। अपनी इस कामयाबी पर भावना ने कहा, 'वह भविष्य में आईएएस या पीसीएस नहीं बल्कि एक शिक्षक बनना चाहती हैं। क्योंकि एक कुशल शिक्षक कई बच्चों को आईएएस, पीसीएस बनाता है।'

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story