×

पीएम मोदी ने रखी है एक और भव्य मूर्ति की नींव, जानिए कब तैयार होगी ये स्टैच्यू, क्या है खासियत

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 31 Oct 2018 8:22 AM GMT

पीएम मोदी ने रखी है एक और भव्य मूर्ति की नींव, जानिए कब तैयार होगी ये स्टैच्यू, क्या है खासियत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: शिव स्मारक या छत्रपति शिवाजी महाराज 17 वीं शताब्दी के भारतीय योद्धा राजा और मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी महाराज को समर्पित एक स्मारक निर्माणाधीन है। 3600 करोड़ की लागत से बनने वाली यह प्रतिमा भारतीय राज्य महाराष्ट्र में मुंबई शहर के तट के पास अरब सागर में स्थित होगी। 24 दिसंबर 2016 को भव्य स्मारक की नींव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी। बता दें कि इससे पहले भारत में ही 'स्टैच्यू आॅफ यूनिटी' के नाम से सरदार पटेल को समर्पित 182 मीटर की एक मूर्ति का अनावरण 31 अक्टूबर को पीएम मोदी ने किया है।

अब भारत में ही होगी दुनिया की दो सबसे बड़ी मूर्ति?

छत्रपति शिवाजी महाराज का यह विशाल स्मारक दुनिया का सबसे बड़ा स्मारक होगा। शिवाजी की मूर्ति अमेरिका के स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से भी बड़ी होगी। 192 मीटर ऊंचे इस स्मारक के लिए बनने वाला आधार 77 मीटर होगा। इसी आधार पर घोड़े पर सवार छत्रपति शिवाजी की मूर्ति 114 मीटर की होगी। पूरे स्मारक को 13 हेक्टेयर में फैले चट्टानों पर बनाया जाने वाला है। इस स्मारक स्थल पर एमपी थिएटर, लाइब्रेरी, फूड कोर्ट भी बनाया जाएगा। 'स्टैच्यू आॅफ यूनिटी' के नाम से सरदार पटेल को समर्पित 182 मीटर की एक मूर्ति का अनावरण 31 अक्टूबर को पीएम मोदी ने किया है, वह भी भारत में ही है जो कि दुनिया की सबसे उंची मूर्ति है।

यह भी पढ़ें— ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’: मोदी का बयान- भारत अब अपनी शर्तों पर दूसरों से मिलता है

क्या है मूर्ति की खासियत, और कब बनकर होगी तैयार

मूर्ति मुंबई के गिरगाम चौपाटी समुद्र तट के सामने स्थित होगी, जो कि एक मानव निर्मित द्वीप चट्टान पर 1.5 किमी दूर है। मूर्ति ऊंचाई में 126 मीटर (413 फीट) होगी, जो 84 मीटर (276 फीट) पैडस्टल के शीर्ष पर स्थित है, स्मारक की कुल ऊंचाई 212 मीटर (696 फीट) बना रही है। परियोजना क्षेत्र 130,000 वर्ग मीटर से अधिक फैलाने की योजना है। यह 2021 में पूरा होने की उम्मीद है। प्रारंभ में परियोजना की कुल लागत लगभग 4,000 करोड़ (यूएस $ 560 मिलियन) होने का अनुमान था, लेकिन लागत में कमी के उपायों के परिणामस्वरूप 2800 करोड़ (यूएस$390 मिलियन) का खर्च होगा।

यह भी पढ़ें— LIVE : स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बारे में वो सब, जो आप जानना चाहते हैं

परियोजना के पूर्ण दृष्टिकोण में आगंतुक केंद्र भवन, एक स्मारक उद्यान, एक पुस्तकालय, खाद्य अदालत और सम्मेलन केंद्र शामिल होगा जिसमें लगभग 10,000 फुट स्थान होंगे। स्मारक में एक संग्रहालय, प्रदर्शनी गैलरी, एम्फीथिएटर, हेलीपैड और अस्पताल भी होगा। स्मारक छत्रपति शिवाजी महाराज के किलों की प्रतिकृतियां दिखाया जाएगा।

यह भी पढ़ें— स्टैचू ऑफ यूनिटी’: दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बनाने वाले शिल्पकार का यूपी कनेक्शन

24 दिसंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी द्वारा रखी गई नींव

स्मारक शिवाजी को समर्पित किया जाएगा। 24 दिसंबर 2016 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नींव-पत्थर बिछाने समारोह के लिए और संघ के स्वयंसेवकों ने राज्य में विभिन्न नदियों और छत्रपति शिवाजी महाराज के किलों से मिट्टी एकत्र किया था।

क्या है इस पर विवाद

पर्यावरणविदों के अनुसार, कोली मछली पकड़ने का समुदाय भी डरता है कि वे अपनी आजीविका खो देंगे। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने यह भी सुझाव दिया कि महाराष्ट्र में किलों और महलों के विकास और रख-रखाव के लिए पैसे का इस्तेमाल किया जा सकता है, जो कई शिवाजी के शासनकाल में बने थे।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story