Top

हिमाचल: कल से शुरू 10वीं-12वीं की परीक्षा, कोरोना गाइडलाइन के साथ विद्यार्थी तैयार

एक तरफ कोरोना वायरस ने अपनी रफ़्तार पकड़ ली है वही हिमाचल प्रदेश में 13 अप्रैल कल से10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा शुरू होने जा रहे हैं।

Monika

MonikaPublished By Monika

Published on 12 April 2021 1:28 AM GMT

हिमाचल: कल से शुरू 10वीं-12वीं की परीक्षा, कोरोना गाइडलाइन के साथ विद्यार्थी तैयार
X

हिमाचल 10वीं और 12वीं की परीक्षा कल से (फाइल फोटो )

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

धर्मशाला: एक तरफ कोरोना वायरस ने अपनी रफ़्तार पकड़ ली है वही हिमाचल प्रदेश में 13 अप्रैल कल से10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा शुरू होने जा रहे हैं। इस बार हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के तहत 10वीं और 12वीं कक्षा के पंजीकृत 2,46,811 परीक्षार्थी वार्षिक परीक्षाएं देंगे। कोरोना काल के बीच होने जा रहे परीक्षा में सामाजिक दूरी कायम रखनी के लिए 2137 परीक्षा केंद बनाये गए हैं।

13 अप्रैल से दोनों सत्रों में सुबह शाम परीक्षा होंगी। 17 अप्रैल से यूजी की परीक्षाएं होनी हैं। वही कोरोना संक्रमित विद्यार्थी एक महीने बाद परीक्षा में बैठ पाएंगे।

बता दें, सुबह के समय 10वीं के नियमित और एसओएस के तहत पंजीकृत विद्यार्थी परीक्षा हाल में कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए परीक्षा देंगे तो शाम के समय 12वीं के विद्यार्थी परीक्षा देंगे। इसके लिए बोर्ड प्रबंधन ने साड़ी तयारी कर ली है। परीक्षा में नक़ल ना हो इसके लिए जिला प्रशासन, शिक्षा विभाग और बोर्ड के उड़नदस्तों के साथ परीक्षा हाल में लगे सीसीटीवी कैमरे मदद करेंगे।

इस बार बोर्ड परीक्षा में 10वीं कक्षा में नियमित 1,16,954 विद्यार्थी परीक्षा देंगे, 14,931 परीक्षार्थी एसओएस के तहत परीक्षा में बैठेंगे। 12वीं कक्षा में नियमित 1,00,982 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे, एसओएस के तहत 13,944 परीक्षार्थियों ने पंजीकरण करवाया है।

उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन घर से

हिमाचल में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण के चलते स्कूल शिक्षा बोर्ड ने यह निर्णय लिया है कि 10वीं, 12वीं, एसओएस की परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन शिक्षकों को अपने घर पर ही करना होगा। इसके लिए बोर्ड की ओर से कलेक्शन सेंटर बनाये जाएंगे। स्कूल शिक्षा बोर्ड के कर्मी उत्तर पुस्तिकाओं को कलेक्शन सेंटर तक पहुंचाएंगे। यहां से शिक्षक उत्तर पुस्तिकाओं को प्राप्त करेंगे। उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करने के लिए निर्धारित समय सीमा रखी जाएगी। जिसे इन्ही केन्द्रों में जमा किया जायेगा।

Monika

Monika

Next Story