×

मच्छरों से निजात पाने में जुटा IIT कानपुर, ब्रेन एक्टिविटी पर कर रहे अध्ययन

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी (IIT) में करीब 2 साल तक मच्छर के दिमाग की एक्टिविटी पर शोध किया। जिसके बाद यह बात सामने आई है कि मनुष्य के शरीर की गंध डेंगू और मलेरिया फैलाने वाले मच्छरों को आकर्षित करती है। यह महक शरीर से अछने वाली कार्बन डाइऑक्साइड, लैक्टिक एसिड, अमोनिया, ऑक्टीनॉल जैसे तत्वों के कांबिनेशन से पैदा होती है। इसी कांबिनेशन के जरिए मच्छर हम तक पहुंचते है।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 17 May 2017 12:17 PM GMT

मच्छरों से निजात पाने में जुटा IIT कानपुर, ब्रेन एक्टिविटी पर कर रहे अध्ययन
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कानपुर: इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी (IIT) में करीब 2 साल तक मच्छर के दिमाग की एक्टिविटी पर शोध किया। जिसके बाद यह बात सामने आई है कि मनुष्य के शरीर की गंध डेंगू और मलेरिया फैलाने वाले मच्छरों को आकर्षित करती है। यह महक शरीर से अछने वाली कार्बन डाइऑक्साइड, लैक्टिक एसिड, अमोनिया, ऑक्टीनॉल जैसे तत्वों के कांबिनेशन से पैदा होती है। इसी कांबिनेशन के जरिए मच्छर हम तक पहुंचते है।

ये भी पढ़ें... इस साल IIT के कम छात्रों को मिली नौकरी, प्लेसमेंट में आई 66% गिरावट

डेंगू और मलेरिया फैलाने वाले मच्छरों को मनुष्य के शरीर की महक आकर्षित करती है। शरीर से उठने वाली यह महक कार्बन डाइऑक्साइड, लैक्टिक एसिड, अमोनिया, ऑक्टीनॉल जैसे तत्वों के कांबिनेशन से उत्पन्न होती है। इसी कांबिनेशन से मच्छर हम तक पहुंचते हैं। आइआइटी में करीब दो साल से चल रहे अनुसंधान के बाद यह बात सामने आई है।

ये भी पढ़ें... घर बैठे IIT मद्रास से करें MTECH, ऑनलाइन पढ़ सकेंगे छात्र

मच्छरों से बचाव की तैयारी में जुटे

आइआइटी के बायलॉजिकल साइंसेज एंड बॉयोइंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के प्रोफेसर और रिसर्च स्कॉलर मच्छर के दिमाग की एक्टिविटी पर काम कर उन केमिकल का पता लगा रहे हैं जिनसे मच्छरों को शरीर से दूर रखा जा सके और नुकसानदेय भी न हों। मच्छरों से बचाव की तैयारी में जुटे प्रोफेसर और रिसर्च स्कॉलर अब यह पता लगा रहे हैं कि यह कांबिनेशन मच्छरों को किस तरह हमारी ओर आकर्षित करता है।

अधिक जानकारी के लिए आगे की स्लाइड्स में जाएं...

क्या कहना है असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. नितिन गुप्ता का?

मच्छरों के ब्रेन पर काम करने वाले असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. नितिन गुप्ता अपनी टीम के साथ मच्छरों के दिमाग पर केमिकल की गंध से होने वाले परिवर्तन का अध्ययन कर रहे हैं। डा. गुप्ता बताते हैं कि जिस तरह मनुष्य अपनी नाक से गंध को पहचानते हैं। उसी तरह मच्छरों के सिर पर लगे दो अंटीने यह काम करते हैं। इन अंटीनों में रिसेप्टर होते हैं जो किसी भी चीज की गंध ब्रेन तक पहुंचाते हैं।

ये भी पढ़ें... IIT खड़कपुर कराएगा MBBS प्रोग्राम, 2019 से शुरू होगा पहला सेशन

मच्छरों की ब्रेन एक्टिविटी पर अध्ययन

मच्छरों के दिमाग पर काम करने वाले असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. नितिन गुप्ता अपनी टीम के साथ मच्छरों के दिमाग पर केमिकल की गंध से होने वाले परिवर्तन का अध्ययन कर रहे हैं। डा. गुप्ता बताते हैं कि जिस तरह मनुष्य अपनी नाक से गंध को पहचानते हैं उसी तरह मच्छरों के सिर पर लगे दो अंटीने यह काम करते हैं। इन अंटीनों में रिसेप्टर होते हैं जो किसी भी चीज की गंध ब्रेन तक पहुंचाते हैं।

ये भी पढ़ें... प्रकाश जावड़ेकर ने कहा- IIT में जल्द होगा छात्राओं के लिए स्पेशल कोटा

मच्छरों को भगा सकेंगे

परिवर्तन पर हो रहा शोध: डा. गुप्ता ने बताया कि अनुसंधान में हम मच्छर के दिमाग में इलेक्ट्रोड लगाते हैं जो उनके न्यूरोंस की एक्टीविटी को देखते हैं। अलग-अलग केमिकल सूंघने पर मच्छर के ब्रेन में क्या परिवर्तन हो रहा है इसका अध्ययन करके कई चीजों का पता लगा चुके हैं। मनुष्य के शरीर से निकलने वाले केमिकल का कांबिनेशन किस तरह मच्छरों तक पहुंचता है इसका पता लगा रहे हैं। इसके बाद वे केमिकल हमारे पास होंगे जिनका इस्तेमाल हम मच्छरों को भगाने में कर सकेंगे।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story