Top

IIT में अब शुरू होगी संस्कृत की पढ़ाई, छात्रों को मिलेगा रिसर्च का मौका

आईआईटी में संस्कृत की पढ़ाई शुरू होने जा रही है। यह कोर्स शैक्षिक सत्र 2016-17 से लांच हो सकता है। इंस्टिट्यूट में संस्कृत की पढ़ाई के साथ-साथ रिसर्च भी होंगे। इस कोर्स का खाका तैयार कर लिया गया है। यह फैसला मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) ने लिया है। इसमें स्टूडेंट्स को शोध करने का अवसर मिलेगा। ह्यूमैनिटीज के अंतर्गत संस्कृत शिक्षकोंं को प्रस्ताव भी दिया गया। मंत्रालय का कहना है कि जो आईआईटी संस्कृत में पढ़ाई और शोध कराना चाहती हैं, उन्हें आर्थिक रुप से सहायता मिलेगी।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 4 Oct 2016 11:23 AM GMT

IIT में अब शुरू होगी संस्कृत की पढ़ाई, छात्रों को मिलेगा रिसर्च का मौका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर : आईआईटी में संस्कृत की पढ़ाई शुरू होने जा रही है। यह कोर्स शैक्षिक सत्र 2016-17 से लांच हो सकता है। इंस्टिट्यूट में संस्कृत की पढ़ाई के साथ-साथ इस विषय में रिसर्च भी होंगे। इस कोर्स का खाका तैयार कर लिया गया है। यह फैसला मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) ने लिया है।

ये भी पढ़ें... IIT में कैंपस सेलेक्शन की नई नियमावली जारी, दिसंबर से होगा छात्रों का चयन

इस संबंध में बुधवार को अकेडमिक सीनेट की मिटिंग बुलाई गई है। इस बैठक के तहत ह्यूमैनिटीज विभाग में इस कोर्स को शामिल किया जाएगा। इसके माध्यम से आईआईटी कानपुर में पहली भारतीय भाषा की पढ़ाई पर मुहर लगाई जाएगी। स्वीकृति होते ही इसे लागू कर दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें... आईआईटी: MS और PHD का नोटिफिकेशन, 17 अक्टूबर तक करें अावेदन

मिलेगा रिसर्च करने का मौका

-अभी तक फ्रेंच, जर्मन, स्पैनिश और जापानी भाषा की पढ़ाई कराई जाती है, लेकिन अब संस्कृत भी शामिल होगी।

-एचआरडी मिनिस्ट्री ने संस्कृत को विशेष महत्व देते हुए कहा कि संस्कृत को लेकर कॅरिकुलअम डिजाइन कर लिया गया है।

-आईआईटियंस को तुलसी के पत्तों के गुण और वैदिक साइंस के बारे में बताया जाएगा।

-इसके साथ ही भारतीय संस्कृति के बारे में जानकारी दी जाएगी।

ये भी पढ़ें... IIT में सार्क देशों के छात्र ले सकेंगे एडमिशन, पाकिस्तान पर पाबंदी

-इसमें स्टूडेंट्स को शोध करने का अवसर मिलेगा।

-ह्यूमैनिटीज के अंतर्गत संस्कृत शिक्षकोंं को प्रस्ताव भी दिया गया।

-मंत्रालय का कहना है कि जो आईआईटी संस्कृत में पढ़ाई और शोध कराना चाहती हैं, उन्हें आर्थिक रुप से सहायता मिलेगी।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story