×

IIT खड़गपुर छात्रों ने बनाया ऐप, नि:शुल्क पढ़ सकेंगे 65 लाख किताबें

छात्रों ने नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया के लिए Bibliophiles alert नाम का ऐप तैयार किया है। स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वाला कोई भी व्यक्त‍ि इस ऐप को डाउनलोड कर सकता है। इसके माध्यम से नि:शुल्क 65 लाख किताबें ऑनलाइन पढ़ सकेंगे। इसमें रिसर्च पेपर्स, थीसिस और पीरियोडिकल्स आदि भी शामिल होंगे।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 6 April 2017 8:42 AM GMT

IIT खड़गपुर छात्रों ने बनाया ऐप, नि:शुल्क पढ़ सकेंगे 65 लाख किताबें
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : अगर आप महंगी किताबें किसी भी वजह से नहीं खरीद पा रहे हैं, तो ये आपके लिए अच्छी खबर है। आईआईटी खड़गपुर के छात्रों ने एक ऐसा मोबाइल एप्लि‍केशन डेवलप किया है, जो पूरी तरह एजुकेशन पर केंद्र‍ित है।

ये भी पढ़ें... अपने PhD स्टूडेंट्स को बतौर फैकल्टी मेंबर नियुक्त नहीं करेगा IIT रुड़की

छात्रों ने नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया के लिए Bibliophiles alert नाम का ऐप तैयार किया है। स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वाला कोई भी व्यक्त‍ि इस ऐप को डाउनलोड कर सकता है। इसके माध्यम से नि:शुल्क 65 लाख किताबें ऑनलाइन पढ़ सकेंगे। इसमें रिसर्च पेपर्स, थीसिस और पीरियोडिकल्स आदि भी शामिल होंगे।

आगे की स्लाइड्स में जानें ग्रामीण इलाकों को मिलेगा लाभ

ग्रामीण इलाकों को भी मिलेगा फायदा

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबरों के अनुसार संस्थान के निदेशक पी.पी. चक्रबर्ती ने कहा कि स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वाला हर व्यक्त‍ि को इस ऐप से फायदा मिलेगा। इसके जरिए रीडर देश के विभिन्न लाइब्रेरी में मौजूद किताबों को नि:शुल्क अपने मोबाइल पर पढ़ सकते हैं और विदेशी संग्रह की जानकारी भी ले सकते हैं। भारत के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोग भी अपने स्मार्टफोन पर किताबें पढ़ सकते हैं।

ये भी पढ़ें... IIT BHU: स्टूडेंट्स ने बनाई स्वदेशी स्पोर्टस कार, जवानों और कृषि के लिए हो सकती है कारगर

8 राज्यों के बोर्ड की किताबें उपलब्ध

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के इस प्रोजेक्ट को लेकर दावा किया जा रहा है कि इस ऐप में 8 राज्यों के बोर्ड की किताबों, NCERT टेक्स्टबुक, JEE के पिछले पेपर्स, GATE और UPSC और रिसर्च पेपर्स, ऑडियो बुक्स आदि यहां उपलब्ध होगा। इस ऐप पर तीन भाषाओं अंग्रेजी, हिंदी और बांग्ला भाषा में किताबें पढ़ी जा सकती हैं।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story