×

कानपुर की तान्या कथूरिया ने CS परीक्षा में 364 मार्क्स से ऑल इंडिया किया टॉप

बुधवार को जैसे ही सीएस फाउंडेशन का रिजल्ट आया परिजनो को पता लगा कि तान्या ने टॉप किया है। बेटी की इस सफलता को एक दूसरे को मिठाई खिलाकर उन्होंने खुशी के इस पल को सेलिब्रेट कियाl

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 6 July 2017 1:52 PM GMT

कानपुर की तान्या कथूरिया ने CS परीक्षा में 364 मार्क्स से ऑल इंडिया किया टॉप
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कानपुर : कंपनी सेक्रेट्री (CS) फाउंडेशन में तान्या कथूरिया ने ऑल इंडिया टॉप कर कानपुर शहर का नाम रोशन किया है। उन्हें 400 में से 364 मार्क्स (91 पर्सेंट) मिले हैं।

बुधवार को जैसे ही सीएस फाउंडेशन का रिजल्ट आया परिजनो को पता लगा कि तान्या ने टॉप किया है। बेटी की इस सफलता को एक दूसरे को मिठाई खिलाकर उन्होंने खुशी के इस पल को सेलिब्रेट कियाl

पिता ने किया मोटिवेट

तान्या ने 12वीं साइंस स्ट्रीम से किया था। इसके बाद उसने कामर्स को चुना और उसकी बेसिक तैयारी करके उसने 10 से 12 घंटे तक लगातार पढ़ाई कर फर्स्ट रैंक हासिल किया है l इस सफलता के पीछे पेरेंट्स और टीचर को मानती है l

आगे की स्लाइड्स में जानें आसे की तैयारी...

सीएस एक्जीक्यूटिव के लिए तैयार

-चकेरी थाना क्षेत्र के भाउखेड़ा के रहने वाले जोगिन्दर कथूरिया पेशे से एडवोकेट है l

-परिवार में पत्नी रजनी और बेटी तान्या मां नंदना के साथ रहते है l

-बेटी की सफलता से पिता गदगद है।

-अगले चरण में तान्या वह सीएस एक्जीक्यूटिव का लक्ष्य भेदने के लिए तैयार हैं।

कामर्स के बेसिक्स पर दिया ध्यान

तान्या के मुताबिक, मैंने इंटर के बाद सीएस करने की इच्छा अपने पापा से जताई थी l उन्होंने मुझसे इसके लिए प्रोत्साहित किया। लेकिन मेरे सामने सबसे बड़ी समस्या यह थी कि कामर्स नया सब्जेक्ट था जिसकी मुझे बेसिक्स भी नहीं पता थी l मैंने मैथ फिजीक्स कमेस्ट्री से इंटर पास किया था ,मैंने इसके लिए पहले कामर्स के बेसिक को समझा जिसमें मुझे काफी समय लग गया l लेकिन कुछ दिनों बाद मुझे यह बहुत आसान लगने लगी l

आगे की स्लाइड्स में जानें परिजनों ने किया सपोर्ट...

मां ने भी किया प्रेरित

-तान्या ने बताया कि नियमित रूप से 8 से 9 घंटे पढ़ाई की।

-जबकि मां रजनी कथूरिया ने भी उन्हें प्रेरित करती रही।

-उनकी ख्वाहिश फाइनेंस और लॉ के क्षेत्र में भविष्य संवारने की है।

-ग्रेजुएशन के बाद वह लॉ करने के लिए कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (क्लैट) में भी भाग लेंगी।

क्या कहना है पिता का?

पिता जोगिन्दर के मुताबिक मेरे बेटी ने जब एग्जाम दिया था तो मुझे विश्वास था कि वह पास हो जाएगी लेकिन यह नही पता था कि वह फर्स्ट रैंक लाएगीl उन्होंने बताया कि तान्या ने बहुत मेहनत की है मैंने इसके विश्वास को टूटने नहीं दिया और उसे भरोसा दिलाते रहे कि बेटी तुमको हारना नहीं है l मैंने कहा बेटी तुमको जिस फिल्ड में जाना है उसे पूरे इंजॉय के साथ करो तो वह फिल्ड बहुत आसान लगने लगेगी l

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story