इग्नू से सीखें विदेशी भाषाएं, बनाएं अच्छा भविष्य

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) आपके लिए एक नई पहल लेकर आया है और आपको घर बैठे-बैठे विदेशी भाषा सीखने का मौका दे रहा है। पहले तो ये जान लीजिये कि आज के समय में एक अच्छे भविष्य के लिए आप में कई स्किल्स का होना जरूरी है।

नई दिल्ली :इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) आपके लिए एक नई पहल लेकर आया है और आपको घर बैठे-बैठे विदेशी भाषा सीखने का मौका दे रहा है। पहले तो ये जान लीजिये कि आज के समय में एक अच्छे भविष्य के लिए आप में कई स्किल्स का होना जरूरी है। वहीं विभिन्न भाषाओं का ज्ञान रखने वालों के लिए आजकल विभिन्न विभागों में कई पदों पर भर्तियां निकलती हैं। साथ ही ज्यादा भाषाएं सीखने से आपका दिमाग तेज होता है। इसी को ध्यान में रखते हुए इग्नू ने अभी दो विदेशी भाषाओं (कोरियन और पर्शियन) का प्रोग्राम शुरू किया है।

यह पढें,…दिल्ली के शालीमार बाग थाने के एडिशनल एसएचओ कोरोना पॉजिटिव

 

 

रेडियो के माध्यम से कर सकते हैं प्रोग्राम : इग्नू ने यह प्रोग्राम अपने चैनल ज्ञान वाणी पर शुरू कर दिया है। इस प्रोग्राम का हिस्सा बनने के लिए आपको अपने मोबाइल पर ज्ञान वाणी ऐप डाउनलोड कर होगी। कोरियन और पर्शियन भाषाओं पर बने इस प्रोग्राम का प्रसारण 01 मई, 2020 से से शुरू हो चुका है। आप ज्ञान वाणी FM पर 105.6 MHz पर ट्यून करके इसका लाभ उठा सकते हैं। इसका प्रसारण सुबह 9:00 बजे से 9:30 बजे तक किया जाता है।

यह पढें,…कर्नाटक में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 848 हुई, अब तक 31 की मौत

दक्षिण कोरिया, उत्तर कोरिया और चीन में आधिकारिक भाषा के रूप में कोरियन का उपयोग होता है। साथ ही उज्बेकिस्तान, कनाडा और जापान में भी कोरियन भाषा बोली जाती है। वहीं पर्शियन भाषा ईरान, तजाकिस्तान, अफगानिस्तान, उज्बेकिस्तान में बोली जाती है और ईरान, तजाकिस्तान और अफगानिस्तान की आधिकारिक भाषा भी है।