Top

NCPCR का सुझाव, यूनिफॉर्म सिविल कोड को एजुकेशन में शामिल करें

देश में चाइल्ड राइड्स की टॉप बॉडी नेशनल कमिशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स (NCPCR) चाहता है कि यूनिफॉर्म सिविल कोड (UCC) में एजुकेशन को सम्मिलित किया जाए। इस संबंध में कमिशन ने लॉ कमिशन को पत्र भेजकर सुझाव दिया है। अगर इस सुझाव को मान लिया जाए और एजुकेशन के लिए यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू कर सभी मदरसे और वैदिक पाठशालाओं को भी राइट टू एजुकेशन के दायरे में आ जाएगी।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 18 Nov 2016 11:37 AM GMT

NCPCR का सुझाव, यूनिफॉर्म सिविल कोड को एजुकेशन में शामिल करें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : देश में चाइल्ड राइड्स की टॉप बॉडी नेशनल कमिशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स (NCPCR) चाहता है कि यूनिफॉर्म सिविल कोड (UCC) कोर्स में शामिल किया जाए।

इस संबंध में कमिशन ने लॉ कमिशन को पत्र भेजकर सुझाव दिया है। अगर इस सुझाव को मान लिया जाए और एजुकेशन के लिए यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू कर सभी मदरसे और वैदिक पाठशालाओं को भी राइट टू एजुकेशन के दायरे में आ जाएगी।

क्या कहना है प्रियंक कानूनगों का?

-कमिशन मेंबर प्रियंक कानूनगो का कहना है कि सभी बच्चों को बेसिक एजुकेशन एक जैसी मिलनी चाहिए।

-देश में संविधान के अनुसार धार्मिक शिक्षा की स्वतंत्रता होनी चाहिए।

-बच्चों में नेशन फर्स्ट की भावना जगानी चाहिए।

इससे होगा भेदभाव खत्म

कमिशन ने लॉ कमिशन को भेजे सुझाव में लिखा है कि 'हमारा मत है कि देश में चिल्ड्रन एजुकेशन के लिए यूनिफॉर्म सिविल कोड बनाने की सख्त आवश्यकता है। इससे ना केवल भेदभाव खत्म होगा बल्कि सभी बच्चों को समान मौके भी मिलेंगे।'

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story