×

फीस के नाम पर स्कूल से निकाला, परिवार सहित छात्र बैठा धरने पर

एक छात्र अपने ही स्कूल के खिलाफ परिजनों के साथ धरने पर बैठ गया है,छात्र और परिजनों का यह आरोप है कि विद्यालय प्रशासन छात्र का उत्पीड़न कर रहा है।

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 23 Sep 2017 1:58 PM GMT

फीस के नाम पर स्कूल से निकाला, परिवार सहित छात्र बैठा धरने पर
X
फीस के नाम पर स्कूल से निकाला, परिवार सहित छात्र बैठा धरने पर
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

फ़िरोज़ाबाद: यहां एक छात्र अपने ही स्कूल के खिलाफ परिजनों के साथ धरने पर बैठ गया है,छात्र और परिजनों का यह आरोप है कि विद्यालय प्रशासन छात्र का उत्पीड़न कर रहा है। न तो उसे क्लास में बैठने दिया जा रहा है, और न ही उसे परीक्षा में बैठने दिया जा रहा है।

नगर स्थित अमर दीप स्कूल है,जहां सातवीं क्लास में पड़ने वाले सन्नी शर्मा को स्कूल प्रशासन ने यह कह कर स्कूल से बाहर कर दिया कि बढ़ी हुई फीस में कोई रियायत नही की जाएगी।पीड़ित छात्र ओर उसके परिजनों की मॉने तो उसके साथ फीस बढ़ोतरी के नाम पर प्रताड़ित किया जा रहा है।

ये भी देखें: UPPCS की प्रारंभिक परीक्षा 24 सितंबर को, राजधानी में बनाए 110 परीक्षा केंद्र

छात्र सन्नी शर्मा का कहना है कि स्कूल प्रशासन ने फीस बढ़ोत्तरी की है इसके बाद भी सभी छात्रों से लेट फीस अवैध रूप से मांग की जा रही थी, जिसको न देने पर स्कूल प्रशासन ने स्कूल से निकाल दिया। स्कूल प्रशासन अपनी दबंगई से छात्रों के अभिभावकों पर फीस बढ़ोत्तरी का बोझ डाल रहें है। जिसको लेकर हम जिलाधिकारी से शिकायत भी कर चुके है। पहले समझौता भी करा दिया गया था ,उसके बाद भी स्कूल प्रशासन ने छात्र को परीक्षा में बैठने नही दिया और स्कूल से नाम काट कर बाहर कर दिया ,हम तब तक धरना देंगे जब तक हमारी समस्या का समाधान नही होता है

ये भी देखें: कम्युनिकेशन स्किल्स बेहतर करने के लिए अपनाएं ये टिप्स

स्कूल प्रिंसिपल ने कहा श्रीमती अनुपमा शर्मा का कहना है की छात्र को फीस बढ़ोत्तरी की कोई शिकायत नही बल्कि फीस देना नही चाहते और अगर फीस देने में सक्षम नही है, तो स्कूल प्रशासन को लेटर लिखें तो स्कूल प्रशासन मदद करेगा ,जबकि इससे पहले भी यह छात्र स्कूल की छबि बिगाड़ने के लिए धरने पर बैठ चुका है। उस समय सिटी मैजिस्ट्रेट ने समझौते कराया था।

कुल मिलाकर जहां यूपी सरकार इस बात को लेकर बेहद सख्त है कि स्कूलों में छात्रों के साथ हो रही लूट पर रोक लगे,वहीं इस स्कूल के प्रकरण ने शिक्षा के दावों पर सवाल खड़ा कर दिया है।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story