चुनावी सरगर्मी तेज: इविवि में छात्रसंघ चुनाव पांच अक्टूबर को, ये है पूरा शेड्यूल

इलाहाबाद: इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव की सरगर्मी अब धीरे-धीरे रफ़्तार पकड़ने लगी है। सभी छात्र यूनियनों ने अपने-अपने प्रत्याशियों को मैदान में उतारने के लिए रणनीति बनाने लगे हैं। उम्मीवार भी इसके लिए तन मन और धन लगाने में पीछे नहीं हट रहे हैं। इसी बीच इविवि छात्रसंघ चुनाव के कार्यक्रम की घोषणा गुरूवार को कर दी गई।

ये है चुनाव शेड्यूल

निर्वाचन अधिकारी प्रो. आरके उपाध्याय ने बताया कि मतदान पांच अक्तूबर को सुबह आठ से दो बजे के बीच सीनेट परिसर एवं महिला कॉलेज में होगा। फार्म बिक्री छात्रसंघ भवन पर 24 एवं 25 सितंबर को होगी। 26 सितंबर को छात्रसंघ भवन पर नामांकन एवं इविवि की वेबसाइट पर प्रत्याशियों की सूची अपलोड की जाएगी।

उन्होंने कहा कि 27 सितंबर को नाम वापसी, नामांकन के संबंध में आपत्ति, नामांकित प्रत्याशियों की अंतिम सूची के प्रकाशन के साथ उसे वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। इविवि प्रशासन की ओर से घोषित प्रत्याशियों की सूची पर आपत्ति 28 सितंबर को सुनी जाएगी। 29 सितंबर को नामांकन फार्म की जांच और 30 सितंबर को प्रत्याशियों की अंतिम सूची वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।

छात्रसंघ भवन पर एक अक्तूबर को अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के प्रत्याशियों का दक्षता भाषण होगा। एक अक्तूबर को ही चुनाव के जिए योग्य पाए गए प्रत्याशियों की अंतिम सूची वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी। इविवि की ओर से प्रत्याशियों को चुनाव प्रचार के लिए तीन और चार अक्तूबर के बीच की अवधि तय की गई है।

पांच अक्तूबर को आठ से दो बजे के बीच होगा मतदान

छात्रसंघ चुनाव के लिए मतदान पांच अक्तूबर को आठ से दो बजे के बीच सीनेट परिसर एवं महिला कॉलेज परिसर में होगा। मतपत्रों की गणना उसी दिन केंद्रीय पुस्तकालय में शाम छह बजे से शुरू होगी। मतगणना के बाद केंद्रीय पुस्तकालय से परिणाम की घोषणा के साथ उसे वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। छह अक्तूबर को विजयी प्रत्याशियों को प्रात: 11 बजे छात्रसंघ भवन में शपथ ग्रहण कराई जाएगी।

ऐसा करने पर होगी कार्रवाई

इविवि छात्रसंघ चुनाव में पदाधिकारी बनने के लिए चुनाव लड़ने के इच्छुक संभावित प्रत्याशियों के परिसर में जुलूस, घूम-घूमकर कक्षाओं में प्रचार करने, दीवार पर पोस्टर चिपकाने और होर्डिंग लगाने को प्रतिबंध कर दिया गया है। प्रॉक्टर प्रो. राम सेवक दुबे का कहना है कि नियम का पालन नहीं करने पर प्रत्याशियों के खिलाफ कार्रवाई होगी। यह आदेश 31 अगस्त से प्रभावी हो जाएगा। संभावित प्रत्याशी परिसर में जो पोस्टर-होर्डिंग लगाए हैं, उसे दो दिन में साफ कर दें। अन्यथा इस प्रक्रिया को अनुशासनहीनता के दायरे में माना जाएगा।