Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

वर्धा में जल्द शुरू होगा साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी का सिलेबस - डॉ. महेंद्रनाथ पांडे

sujeetkumar

sujeetkumarBy sujeetkumar

Published on 30 Dec 2016 10:49 AM GMT

वर्धा में जल्द शुरू होगा साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी का सिलेबस - डॉ. महेंद्रनाथ पांडे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वर्धा: महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय में तकनीकी विषयों की पढ़ाई जल्द ही शुरू होगी। हिंदी यूनिवर्सिटी के विजन को लैंग्वेज और लिटरेचर तक ही सीमित करने के बजाय अब इसे साइंस और टेक्नोलॉजी को भी अपनाना होगा। सेण्ट्रल एचआरडी मिनिस्ट्री के एमओएस डॉ. महेंद्रनाथ पांडे ने गुरुवार (29 दिसंबर) को वर्धा के 19वें स्थापना दिवस समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने इन सब बातों को कहा था।

मुख्य प्रवक्ता के रूप में उपस्थित इन्द्रनाथ चौधरी ने कहा कि हमें यह नहीं सोचना चाहिए कि अगर भोजपुरी, अवधी या राजस्थानी को कोई दर्जा मिला तो हिंदी कमजोर हो जाएगी। समारोह में प्रो-वाइस चांसलर डॉ. आनंद वर्धन शर्मा, कुलसचिव डॉ. राजेंद्र प्रसाद मिश्र और डिफरेण्ट चेयर्स के डीन जैसे डॉ. हनुमान प्रसाद शुक्ल, मनोज कुमार, डॉ. देवराज, प्रो.केके सिंह और अन्य प्रोफेसर्स मौजूद रहे ।

क्या कहा वर्धा के कुलपति डॉ. गिरीश्वर मिश्रा ने

-आज के दौर में हमें नए और तकनीकी विषयों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

-हिंदी में साइंस और टेक्नोलॉजी की पढ़ाई करना आसान है।

-एमपी की एक यूनिवर्सिटी में हिंदी भाषा पर जोर दिया जाता है।

-हमनें चांसलर के पास इस यूनिवर्सिटी में तकनीकी विषयों का सिलेबस स्टार्ट करने के लिए अप्लाई किया है।

-लैंग्वेज टेक्नॉलॉजी के डेवलपमेंट काम किया जा रहा है।

-इस काम लिए हम सॉफ्टवेयर भी बनावा चुके हैं।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर ...

हिन्दी सेवियों को मिला अवॉर्ड

-वर्धा यूनिवर्सिटी के जयशंकर प्रसाद के समारोह में देश भर के हिन्दी सेवियों को सम्मानित किया गया।

-साहित्यकार इन्द्रनाथ चौधरी की उपस्थिति में देश के चुनिंदा लेखकों और साहित्यकारों को यहां ‘हिन्दी सेवी सम्मान’दिया गया।

-यूनिवर्सिटी की ओर से गैर हिंदी भाषी प्रदेशों के लेखकों, साहित्यकारों और विद्वानों को उनकी हिंदी सेवा के लिए पुरस्कार दिए गए हैं।

-इनमें गुजराती भाषा हिंदी के विद्वान प्रोफेसर रंजना अर्गड़े, कन्नड़ के विद्वान प्रोफेसर टीआर भट्ट, मराठी भाषा के चंद्रकांत पाटिल, बांग्ला भाषा के अमिताभ शंकर राय चौधरी को 'हिंदी सेवी सम्मान' से नवाजा गया।

शमशेर बहादुर सिंह रचनावली की विमोचन की

- डॉ. रंजना अर्गड़े द्वारा संपादित शमशेर बहादुर सिंह रचनावली की विमोचन की गई।

- इसके साथ ही वर्धा यूनिवर्सिटी के नए साल का कैलेंडर भी जारी किया गया।

sujeetkumar

sujeetkumar

Next Story