×

UP Board Result 2017: कानपुर के एक ही स्कूल की दो छात्राओं ने हासिल किया चौथा स्थान

एक ही स्कूल की दो छात्राओं ने यूपी बोर्ड के दसवीं की परीक्षा में चौथा स्थान प्राप्त किया है l दोनो ने अपने पैरेंट्स ,स्कूल और पूरे शहर

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 9 Jun 2017 10:38 AM GMT

UP Board Result 2017: कानपुर के एक ही स्कूल की दो छात्राओं ने हासिल किया चौथा स्थान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कानपुर: एक ही स्कूल की दो छात्राओं ने यूपी बोर्ड के दसवीं की परीक्षा में चौथा स्थान प्राप्त किया है l दोनो ने अपने पैरेंट्स ,स्कूल और पूरे शहर का नाम रोशन किया है।

सरदार पटेल में पढ़ने वाली प्रिया अवस्थी और निशा यादव ने 95 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैंl जैसे हीयूपी बोर्ड का रिजल्ट घोषित हुआ कानपुर की दोनों छात्राओ ने शहर में प्रथम और प्रदेश में चौथे स्थान पाने की खबर मिली। स्कूल परिसर में जश्न शुरू हो गया है। वहीं इनके पैरेंट्स की खुशी का ठिकाना नही है।

- बर्रा थाना क्षेत्र स्थित जरौली में रहने वाले आनंद यादव जनपद कानपुर देहात के रायपुर में सिपाही के पद पर तैनात है।

- परिवार में पत्नी सुनीता बड़ी बेटी प्रिया व् छोटी बेटी शालिनी के साथ रहते है।

- प्रिया सरदार पटेल इंटर कालेज में पढ़ती है l प्रिया ने 95 प्रतिशत अंक प्राप्त किये है वह पढ़ लिख कर आईएएस बनना चाहती है।

- दूसरी टॉपर निशा यादव के पिता रक्षा राम यादव ट्रक ड्राइवर है परिवार में मां मीना यादव, बड़े भाई हरिओम के साथ रहती है।

- लेकिन इन दिनों वह पूरे परिवार के साथ अपने गाँव गोरखपुर गई है।

प्रिया के मुताबिक

- प्रिया यादव ने बताया कि मै पढ़ कर आईएएस बनना चाहती हूं।

- जिस प्रकार मेरे पापा पुलिस विभाग में सिपाही है और वह दूसरों की रक्षा के लिए रात ड्यूटी करते है उसी तरह मै भी आईएएस बनकर देश के लिए काम करना चाहती हूँ l

- प्रिया ने बताया कि पढ़ाई में अच्छे स्कूल ख़राब स्कूल जैसा कुछ नही होता है। शिक्षा सभी स्कूल में होती है यह आप पर डीपेंड करता है कि आप शिक्षा कैसे हासिल करते हैं।

कामयाबी के पीछे मां का बड़ा हाथ- प्रिया

- प्रिया ने बताया कि मेरे पापा हमलोगों के बीच कम समय बिता पाते है। इस बीच मेरी मां हम मेरा ख्याल रखती थी।

- वही सुबह पढने के लिए उठती थी जब देर रात तक पढ़ते तो वह मुझे ब्रेक लेने को कहती थी।

- वही स्कूल के टीचरों ने भी पूरा सपोर्ट किया जिसकी वजह से यह उपलब्धि हासिल कर पाई हूं l

प्रिया ने बताया कि एग्जाम के टाइम मैंने टेंशन लेकर पढाई नही बल्कि इसको पार्ट में डिवाइड कर दिया था l सुबह के पार्ट में लिख कर लर्न करना दोपहर में रिवाइस करना और रात के वक्त में नुमेरिकल हल करते थे l इस तरफ से मैंने एग्जाम की तयारी की थी l

क्या बोले प्रिया के मां-बाप ?

- वही बेटी की इस कामयाबी पर पिता के आँखों से आंसू छलक पड़े उन्होंने कहा मुझे बहुत खुशी है कि बेटी को पूरा प्रदेश जान रहा है।

- मुझे गर्व है कि बेटी ने शहर का नाम रोशन किया है इसके साथ ही स्कूल का भी नाम रोशन किया है।

- उन्होंने कहा कि मेरे दो बेटिया है और बेटिया किसी से कम नही होती है। मैं इन्ही को पढ़ा लिखाकर उच्चे मुकाम तक पहुचना चाहता हूँ।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story