Top

कंगना रनौत अब गांधी नेहरू पर बिफरीं, मौका था पटेल जयंती का

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने सरदार वल्‍लभभाई पटेल की 145वीं जयंती के मौके पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। साथ ही गांधी और नेहरू की कड़ी आलोचना भी की है। 

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 31 Oct 2020 12:18 PM GMT

कंगना रनौत अब गांधी नेहरू पर बिफरीं, मौका था पटेल जयंती का
X
कंगना रनौत ने सरदार वल्लभभाई पटेल को दी श्रद्धांजलि
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत अपने बेबाकी के लिए जानी जाती हैं। वो सभी मुद्दों पर खुलकर अपनी बातें रखती हैं। इस बीच अभिनेत्री ने कुछ ऐसा बयान दिया है, जिस पर एक बार फिर वो कॉन्ट्रोवर्सी में आ सकती हैं। दरअसल, आज देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्‍लभभाई पटेल की 145वीं जयंती के मौके पर कंगना ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही महात्मा गांधी और पंडित जवाहर लाल नेहरू की आलोचना की है।

कंगना ने इस तरह दी पटेल को श्रद्धांजलि

कंगना ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा कि भारत के लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती की शुभकामनाएं। आप एक ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्होंने हमें आज का भारत दिया है। लेकिन आपने एक प्रधानमंत्री के तौर पर अपना पद त्याग कर हमारे महान नेतृत्व और दूरदर्शिता को हमसे दूर लेते गए हैं। हमने आपके निर्णय पर अफसोस है।



यह भी पढ़ें: आप खून-पसीने की कमाई बैंकों में जमा करते रहे, यहां चुपके से काट लिए इतने रूपये

भारत के असली लौह पुरुष हैं वल्लभभाई पटेल

अभिनेत्री ने अन्य ट्वीट में लिखा कि वे भारत के असली लौह पुरुष हैं। मेरा मानना है कि गांधी जी, नेहरू की तरह एक कमजोर दिमाग वाला व्यक्ति चाहते थे, जिसे वह नियंत्रित कर सके और आगे कर सभी फैसले ले सकें। यह एक अच्छी योजना थी, लेकिन गांधी के मारे जाने के बाद जो कुछ हुआ वह बहुत बड़ी आपदा थी।



यह भी पढ़ें: चीन पर बड़ा खुलासा: गुपगुप दी कोरोना वैक्सीन, मुंह खोलने पर कार्रवाई की चेतावनी

जिस पर हमारा हक है, उसे हमें बेशर्मी से छीन लेना चाहिए

अपने अगले ट्वीट में कंगना लिखती हैं कि पटेल ने गांधी को खुश करने के लिए भारत के पहले प्रधान मंत्री के रूप में अपने सबसे योग्य और निर्वाचित पद का बलिदान दिया, क्योंकि उन्हें लगा कि नेहरू बेहतर इंग्लिश बोलते हैं। इससे सरदार पटेल को को कोई नुकसान नहीं हुआ, लेकिन पूरे देश को दशकों तक पीड़िता होना पड़ा। जिस पर हमारा हक है, उसे हमें बेशर्मी से छीन लेना चाहिए।



यह भी पढ़ें: बीजेपी को झटका: इस दिग्गज नेता के पार्टी छोड़ने की अटकलें तेज़, ये है वजह

केली बंगला है खासः लालू के मुरीद सब कहीं से आते हैं, मिल तीन ही पाते हैं

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story